Home > ट्रेंडिंग > एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने ठुकराया राष्ट्रपति का चुनाव लड़ने का विपक्ष का प्रस्ताव

एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने ठुकराया राष्ट्रपति का चुनाव लड़ने का विपक्ष का प्रस्ताव

राष्ट्रपति पद के लिए प्रत्याशी घोषित करने में विपक्ष एकजुटसत्ता पक्ष के सामने विपक्ष किसको खड़ा करेगी सबकी नजरें लगी हुई है


- ममता द्वारा दिल्ली में बुलाई गई बैठक में कांग्रेस, राकांपा, सपा, लेफ्ट, समेत 17 दल रहे मौजूद.

नई दिल्ली: विपक्ष और सत्ता पक्ष दोनों की ही राष्ट्रपति चुनाव की तैयारी जोरों कर रहे हैं। दोनों ही तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवारों के नाम की अब तक घोषणा नहीं हुई है। इस स्थिति के बीच विपक्ष ने शरद पवार से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनने का अनुरोध किया था। हालांकि शरद पवार ने इसे मानने से इनकार कर दिया। बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की अध्यक्षता में नई दिल्ली में एक बैठक में, शरद पवार ने विपक्ष के प्रस्ताव को खारिज कर दिया। जबकि उनकी पार्टी ने इसकी अटकलों पहले ही खारिज कर दिया था कि पवार विपक्ष के साथ है ना कि राष्ट्रपति पद के लिए।

ममता बनर्जी द्वारा दिल्ली में बुलाई गई बैठक में 16 विपक्षी दलों ने हिस्सा लिया। बैठक में कांग्रेस, राकांपा, सपा, द्रमुक, राजद और वाम दलों ने भाग लिया। बैठक दो घंटे तक चली जिसमें राष्ट्रपति चुनाव और 10 राज्यों के विधानसभा चुनाव के साथ-साथ लोकसभा चुनाव पर भी चर्चा हुई। हालांकि शिवसेना, आम आदमी पार्टी, अकाली दल, एआईएमआईएम, टीआरएस और बीजद के नेता बैठक में मौजूद नहीं थे। शिवसेना ने पहले ही मना कर दिया था कि वो इस बैठक में शामिल नहीं हो पाएगे।

बैठक में शामिल हुए सभी नेताओं ने शरद पवार से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनने की अपील की थी, जिसे शरद पवार ने खारिज कर दिया। हालांकि, यह पूछे जाने पर कि विपक्ष की ओर से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार कौन होगा, बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपालकृष्ण गांधी ने कहा कि इस समय बयान देना उचित नहीं होगा। गोपालकृष्ण गांधी 2014 में विपक्ष की ओर से उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार थे, जो वेंकैया नायडू से चुनाव हार गए थे। उधर, खबरें हैं कि दिल्ली में ममता बनर्जी द्वारा बुलाई गई विपक्ष की बैठक में विपक्ष ने एक ही उम्मीदवार पर सहमति जताई। देखना होगा कि यह प्रत्याशी कौन होता है।

Updated : 2022-06-16T17:39:04+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top