Home > ट्रेंडिंग > कैबिनेट विस्तार: एकनाथ शिंदे की कैबिनेट में महिलाओं को मौका क्यों नहीं?

कैबिनेट विस्तार: एकनाथ शिंदे की कैबिनेट में महिलाओं को मौका क्यों नहीं?

महाराष्ट्र मंत्रिमंडल विस्तार एकनाथ शिंदे गुट से मुंबई से विधायक और महिला मंत्री नहीं?

कैबिनेट विस्तार: एकनाथ शिंदे की कैबिनेट में महिलाओं को मौका क्यों नहीं?
X

मुंबई: आज मुंबई के राजभवन में एकनाथ शिंदे का कैबिनेट विस्तार समारोह हुआ. इस मौके पर शिंदे के गुट और भाजपा के 9-9 विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली। हालांकि इन 18 मंत्रियों में एक भी महिला शामिल नहीं होने से हैरानी जताई जा रही है। महाराष्ट्र जिसने स्थानीय निकायों में महिलाओं को राजनीतिक आरक्षण दिया। उस महाराष्ट्र कैबिनेट में एकनाथ शिंदे की सरकार में कोई महिला नहीं है। हाल ही में कई राजनीतिक दल महिला मुद्दों और महिलाओं को राजनीतिक प्रतिनिधियों के रूप में अवसर देते हुए देखे गए हैं। केंद्र में महिलाओं को लेकर विशेष रूप से कई योजनाएं बनाई जाती हैं। हालांकि, महाराष्ट्र के कैबिनेट में एक भी महिला नहीं है, जो एक प्रगतिशील महाराष्ट्र होने का दावा करती है। इससे महिलाओं में काफी असंतोष है।

हाल में ही भंडारा बलात्कार प्रकरण में शिवसेना विधायक मनीषा कायंदे, और नीलम गोर्हे ने जमकर सरकार को लताड़ा था कि महिलाओं की सुरक्षा की बात करने वाली इस सरकार को महिलाओं की कोई चिंता नहीं है। मनीषा कायंदे ने भंडारा का दौरा किया था और मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उनके स्थानीय विधायक पर एसपी के जबरन तबादले का आरोप लगाया था।

दहिसर-बोरीवली के शिंदे-फडणवीस गुट के समर्थकों में भारी निराशा!

उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के करीबी प्रवीण दरेकर को मंत्री न बनाये जाने से समर्थक निराश! ओबीसी और महिला कोटे से विधायक मनीषा चौधरी को मंत्री बनाये जाने की संभावना थी, परंतु उन्हें भी पहले विस्तार में जगह नहीं दिया गया है। इसलिए उनके समर्थक भी निराश हैं। मंत्री बनने की उम्मीद में शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से बगावत कर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे का दामन थामने वाले विधायक प्रकाश सुर्वे को भी मंत्री पद नहीं मिला है। मुंबई से भाजपा ने एक विधायक को मंत्री बनाया लेकिन शिंदे गट ने किसी मुंबई के विधायक को मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया।

Updated : 2022-08-09T15:52:58+05:30
Next Story
Share it
Top