Home > ट्रेंडिंग > बीएमसी ने कोविड वॉर रूम में दो फर्जी महिला डॉक्टरों की नियुक्ति; डॉक्टरों को दो साल से 80,000 रुपये वेतन मिल रहा है

बीएमसी ने कोविड वॉर रूम में दो फर्जी महिला डॉक्टरों की नियुक्ति; डॉक्टरों को दो साल से 80,000 रुपये वेतन मिल रहा है

बीएमसी ने कोविड वॉर रूम में दो फर्जी महिला डॉक्टरों की नियुक्ति; डॉक्टरों को दो साल से 80,000 रुपये वेतन मिल रहा है
X

मुंबई: बृहन्मुंबई मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने घाटकोपर (पूर्व) में एक कोविड वॉर रूम में दो फर्जी महिला डॉक्टरों को नियुक्त किया है। फर्जी डॉक्टरों को हर महीने 80 हजार रुपये वेतन दिया जा रहा है। पेशे से वकील वेद तिवारी ने कई अधिकारियों से शिकायत की है लेकिन बीएमसी और पुलिस अधिकारी इन दोषी अधिकारियों और डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कोई दिलचस्पी या झुकाव नहीं दिखा रहे हैं।अकेला ब्यूरो इंफॉर्मेशन (एबीआई) के मुताबिक आखिर किसके दबाव में काम कर रहे है पुलिस और बीएमसी अधिकारी इसका किसी के पास जवाब नहीं है।



फर्जी डॉक्टरों की पहचान रिद्धि पटेल और वैशाली शाह के रूप में हुई है। दोनों एन-वार्ड, घाटकोपर, (पूर्व) के सीओवीआईडी वॉर रूम में सहायक चिकित्सा अधिकारी के रूप में कार्यरत है और उन्हें काम पर रखने वाले अपराधी महेंद्र खंडाडे, संजय सोनवणे और अजीत कुमार अंबी हैं। महेंद्र खंडाडे स्वास्थ्य के चिकित्सा अधिकारी हैं, संजय सोनवणे वर्तमान सहायक आयुक्त एन-वार्ड हैं और अजीत अंबी उस समय बीएमसी में सहायक आयुक्त एन-वार्ड थे।

वेद तिवारी-जिनके पास चिकित्सा क्षेत्र में भी अनुभव है, ने सूचना के अधिकार (आरटीआई) अधिनियम के माध्यम से दस्तावेज प्राप्त किए। रिद्धि पटेल और वैशाली शाह किसी भी महाराष्ट्र मेडिकल काउंसिल(एमएमसी) Maharashtra Medical Council (MMC) के साथ पंजीकृत नहीं हैं। अजीत अंबी ने 1 जुलाई, 2020 को रिद्धि पटेल को, संजय सोनवणे और महेंद्र खंडाडे ने 27 सितंबर, 2021 को वैशाली शाह को नियुक्त किया।



वेद तिलारी ने कहा, "रिद्धि पटेल और वैशाली शाह की नियुक्ति महाराष्ट्र मेडिकल प्रैक्टिशनर एक्ट 1961 की धारा 33(1), 33 (ए) (1) (बी) और 33 (ए) (2) (ए) के उल्लंघन में है।" तिवारी। 22 जुलाई 2022 को वेद तिवारी ने बीएमसी के कमिश्नर इकबाल सिंह चहल से शिकायत कर महेंद्र खंडाडे, संजय सोनवणे और अजीत अंबी के खिलाफ तत्काल निलंबन और विभागीय जांच की मांग की। नोट खबर का अकेला ब्यूरो इंफॉर्मेशन (एबीआई) समाचार के संबंधित सभी दस्तावेज उपलब्ध है।

Updated : 2022-08-09T10:14:26+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top