Home > ट्रेंडिंग > एनडीआरएफ मानदंडों को दोहरी सहायता प्रदान करने का राज्य मंत्रिमंडल का निर्णय एक धोखा है, धूल उड़ाने वाला है - अजित पवार

एनडीआरएफ मानदंडों को दोहरी सहायता प्रदान करने का राज्य मंत्रिमंडल का निर्णय एक धोखा है, धूल उड़ाने वाला है - अजित पवार

एनडीआरएफ के मानदंड में कई कारक शामिल नहीं हैं; खेत मजदूरों, व्यापारियों, टपरी धारकों को भी मदद करने की आवश्यकता है।एनडीआरएफ के मानदंड समाप्त हो गए हैं, दोहरी सहायता से बाढ़ पीड़ितों को राहत नहीं मिलेगी।

एनडीआरएफ मानदंडों को दोहरी सहायता प्रदान करने का राज्य मंत्रिमंडल का निर्णय एक धोखा है, धूल उड़ाने वाला है - अजित पवार
X

मुंबई: विदर्भ, मराठवाड़ा और अन्य राज्यों में भारी बारिश के कारण फसलों, घरों और कृषि भूमि को भारी नुकसान हुआ है। चूंकि एनडीआरएफ के मानदंड समाप्त हो चुके हैं, सरकार भले ही दोहरी सहायता की घोषणा करे, किसानों को कोई राहत नहीं मिलेगी। हमने सूखी जमीन के लिए 75,000 रुपये प्रति हेक्टेयर और बागवानी के लिए 1.5 लाख रुपये प्रति हेक्टेयर की मांग की थी। विधानसभा में विपक्ष के नेता अजित पवार ने राज्य मंत्रिमंडल के इस फैसले पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की कि मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्रियों ने भारी बारिश पीड़ितों के चेहरे पोंछने और उन्हें और अधिक दुखी करने का काम किया है।

भारी बारिश की राहत के लिए 3 हेक्टेयर क्षेत्र की सीमा अनुचित है और इससे कई किसान राहत से वंचित रहेंगे। इस स्थिति को शिथिल करने की आवश्यकता है। चूंकि भारी बारिश के दौरान खेतिहर मजदूरों का रोजगार खत्म हो जाता है, उन्हें भी मदद की जानी चाहिए। घर के बर्तन, कपड़े खराब होने पर प्रति परिवार 3 हजार 800 रुपये एनडीआरएफ की कसौटी है, वह दोगुना नहीं होगा। हमारी महाविकास अघाड़ी सरकार ने प्रत्येक प्रभावित परिवार को बर्तन, कपड़े और खाद्यान्न के लिए पांच-पांच हजार रुपये की तरह 15 हजार रुपये दिए थे। पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हुए मकानों के लिए डेढ़ लाख रुपये और आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त मकानों के लिए 50 हजार रुपये की राशि दी गई।



एनडीआरएफ के दोगुने मानकों के बाद भी यह वहां नहीं पहुंच पाएगा। इसलिए सरकार को चाहिए कि इस समय महाविकास अघाड़ी से ज्यादा सहायता की घोषणा करे। दुकानदारों, टपरी धारकों के लिए एनडीआरएफ मानदंड में कोई मदद नहीं है। महा विकास अघाड़ी सरकार ने ऐसी संस्थाओं को नुकसान का 75 प्रतिशत या अधिकतम 10,000 रुपये तक की मदद की थी। ऐसा लगता है कि इन कारकों पर इस समय विचार नहीं किया गया है, उन्हें होना चाहिए। राज्य में शिंदे-फडणवीस सरकार के मंत्रिमंडल द्वारा भारी बारिश के पीड़ितों की मदद के लिए लिया गया निर्णय कपटपूर्ण है, जनता की आंखों में धूल झोंक रहा है और भारी बारिश के पीड़ितों को कोई सहायता नहीं दे रहा है. नेता प्रतिपक्ष अजित पवार ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि इस फैसले पर पुनर्विचार कर विधायिका सत्र में बाढ़ पीड़ितों को और अधिक मदद दिलाने के लिए आवाज उठाई जाएगी और सरकार को एनडीआरएफ कs मानदंड सुधारने के लिए केंद्र से बात करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

Updated : 10 Aug 2022 2:30 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top