Latest News
Home > न्यूज़ > जब महाराष्ट्र में फ्लोर टेस्टिंग की बात आती है तो क्या हो सकता है, मैक्स महाराष्ट्र के वरिष्ठ पत्रकार प्रवीण मिश्रा का राजनीतिक विश्लेषण

जब महाराष्ट्र में फ्लोर टेस्टिंग की बात आती है तो क्या हो सकता है, मैक्स महाराष्ट्र के वरिष्ठ पत्रकार प्रवीण मिश्रा का राजनीतिक विश्लेषण

जब महाराष्ट्र में फ्लोर टेस्टिंग की बात आती है तो क्या हो सकता है, मैक्स महाराष्ट्र के वरिष्ठ पत्रकार प्रवीण मिश्रा का राजनीतिक विश्लेषण
X

मुंबई: महाराष्ट्र की राजनीति दिन-ब-दिन बदल रही है। उद्धव ठाकरे की कुर्सी के साथ-साथ उनकी पार्टी शिवसेना की कमान भी उनके हाथों से फिसलती नजर आ रही है। विधानसभा में शिवसेना की संख्या लगातार घट रही है, गुरुवार को एकनाथ शिंदे के खेमे में शिवसेना के 33 विधायक थे, अब 38 हो गए हैं, 9 विधायक निर्दलीय हैं और 2 विधायक प्रहार जनशक्ति पार्टी के हैं जो सभी के सभी गुवाहाटी के रैडिसन ब्लू होटल में ठहरे हुए हैं. अब सभी की निगाहें फ्लोर टेस्ट पर टिकी हैं।




क्या है यह फ्लोर टेस्ट यह परीक्षण निर्धारित करता है कि पार्टी के पास सरकार बनाने के लिए पर्याप्त संख्या बल है या नहीं। राज्यपाल इसमें हस्तक्षेप नहीं कर सकते। सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश में कहा गया है कि राज्यपाल को फ्लोर टेस्ट का आदेश देने की शक्ति से वंचित नहीं किया जा सकता है। यदि राज्यपाल को लगता है कि सरकार के पास संख्या बल कम है तो वह चाहें तो फ्लोर टेस्ट के लिए बुला सकते हैं। विधान के अनुसार, यदि विधानसभा का सत्र चल रहा हो तो अध्यक्ष शक्ति परीक्षण की मांग कर सकता है, लेकिन यदि सत्र नहीं चल रहा है तो राज्यपाल धारा 163 के तहत शक्ति परीक्षण की मांग कर सकता है। वर्तमान में महाराष्ट्र में केवल राज्यपाल ही फ्लोर टेस्ट के लिए बुला सकते हैं क्योंकि विधानसभा का कोई सत्र नहीं चल रहा है।



महाराष्ट्र की 288 सीटों पर किसी भी राजनीतिक दल को बहुमत साबित करने के लिए 144 विधायकों के समर्थन की जरूरत है. वर्तमान सरकार के लिए, महाविकास आघाडी (एमवीए) सरकार में शिवसेना के 55, राकांपा के 53 और कांग्रेस के 44 विधायक हैं। स्पष्ट है कि सरकार के पास संख्या बल कम है किनका उनको सहारा है उन्होंने पत्ता नहीं खोला है लेकिन महाराष्ट्र में शरद पवार राजनीतिक उट किस तरफ भी करवट ला सकते ऐसा सरकार को भरोसा है। यह फ्लोर टेस्ट पर पता चलेगा लेकिन संख्या बल के खेला होबे, शिवसेना से 38 विधायक टूट चुके है पार्टी का मानना है कि उसमें आधे से ज्यादा विधायक हमारे साथ है।



एकनाथ शिंदे के विद्रोह के बाद कहा जा रहा है कि उद्धव सरकार अल्पमत में चल रही है। क्योंकि शिंदे का दावा है कि 9 निर्दलीय और प्रहार जनशक्ति पार्टी के 2 विधायकों के समर्थन से शिवसेना के 38 विधायक उनके साथ हैं। इसके साथ बीजेपी 106 विधायकों के साथ सबसे बड़ी पार्टी है। इसके साथ भाजपा के साथ अन्य निर्दलीय विधायक 6 स्वाभिमानी शेतकरी संघटना, मनसे भी है। तो ऐसे में वे आसानी से बहुमत साबित कर सरकार बना सकते हैं। अगर सरकार के साथ विधायकों की बात करें तो सरकार के पास 114 विधायक हैं, जिनमें एनसीपी के 53, शिवसेना के 17 और कांग्रेस के 44 विधायक शामिल हैं। इसलिए सरकार के खिलाफ आंकड़े ऊंचे होते जा रहे हैं। सरकार के खिलाफ 164 विधायक हैं, जिनमें भाजपा के 106, बागी शिंदे के 38 और सरकार के खिलाफ आए 20 अन्य विधायक हैं।



दूसरी ओर, शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है कि विधानसभा में शिवसेना की ताकत कम हो गई है लेकिन बागी विधायक फ्लोर टेस्ट में एमवीए का समर्थन करेंगे। राउत ने कहा कि संख्या कभी भी बदल सकती है। उन्होंने कहा कि बागी विधायकों के मुंबई लौटने के बाद ही पार्टी के प्रति वफादारी की परीक्षा होगी। राउत ने स्वीकार किया कि विद्रोह ने विधायिका में दलों की संख्या कम कर दी थी। लेकिन संख्या कभी भी बदल सकती है। जब बागी विधायक लौटेंगे तो बालासाहेब ठाकरे और शिवसेना के प्रति उनकी वफादारी की परीक्षा होगी।

Updated : 25 Jun 2022 10:21 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top