Home > न्यूज़ > सुधीर मुनगंटीवार पर पूर्व मंत्री डॉ. जितेंद्र अव्हाड का हमला कहा कि अपने आदेशों से किसी का गला घोंटने का प्रयास न करे मंत्री जी 

सुधीर मुनगंटीवार पर पूर्व मंत्री डॉ. जितेंद्र अव्हाड का हमला कहा कि अपने आदेशों से किसी का गला घोंटने का प्रयास न करे मंत्री जी 

"मंत्री सुधीर मुनगंटीवार का वंदे मातरम आदेश" लोगों को क्या बोलना है कैसे बोलना वो आप तय करेंगे, आपको किसी नाम से लोग बुलाएं पहले आप बताएं- जितेंद्र आव्हाड

X

सुधीर मुनगंटीवार के आदेश पर पूर्व मंत्री डॉ. जितेंद्र अव्हाड ने क्या कहा आप भी सुनें...

ठाणे: सांस्कृतिक मंत्री सुधीर मुनगंटीवार के मंत्री पद मिलते ही कुछ मिनटों के बाद उन्होंने आदेश दिया कि 15 अगस्त से सभी सरकारी कार्यालयों में अधिकारी कर्मचारी फोन आने पर वंदे मातरम से करे संबोधन की शुरूआत। इसको लेकर राज्य के पूर्व गृह निर्माण मंत्री डॉ जितेंद्र आव्हाड ने जमकर सुधीर मुनगंटीवार पर जमकर तंज कसा उन्होंने कहा कि सुधीर मुनगंटीवार जी अगर देश में इस तरह का आदेश लाकर आप किसी को बाध्य नहीं कर सकते। देश को आजादी खुले में सांस लेने के लिए मिली किस अधिकारी कर्मचारी को किस तरह संबोधन करना है यह आप तय करेंगे, आप बताएंगे यह ठीक बात नहीं है।


महाराष्ट्र में पहले नमस्कार, जय भीम, सश्रीकाल, जयहिंद के साथ भी लोग संबोधन करते है, आप यही बोलना है इसके लिए बाध्य नहीं कर सकते है। आपको क्या कहे सुधीर मुनगंटीवार, सुधीर जी मुनगंटीवार, सुधीर भाऊ मुनगंटीवार, क्या कहे पहले आप तय करे। देश में संविधान बना है लोगों के अभिव्यक्त की आजादी है, अपने आदेशों से लोगों गला घोंटने का प्रयास मत किजिएं।




भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के योद्धाओं के प्रति आभार व्यक्त करने के लिए राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता और पूर्व आवास मंत्री डॉ. जितेंद्र अव्हाड के नेतृत्व में मशाल रैली का आयोजन किया गया। इस अवसर पर डॉ जितेंद्र अवध ने विश्वास व्यक्त किया कि "हमें गांधी-नेहरू के सपनों के भारत के निर्माण के लिए एक नए संघर्ष का निर्माण करने की आवश्यकता है। हम सबको एक ऐसे भारत का निर्माण करना है हम भारतीय स्वतंत्रता का अमृत महोत्सव वर्ष मना रहे है। उस अवसर पर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी,के ठाणे-पालघर जिला समन्वयक और ठाणे शहर के अध्यक्ष आनंद परांजपे, ठाणे-पालघर विभागीय महिला अध्यक्ष ऋताताई आव्हाड, राकांपा पार्टी, ठाणे शहर (जिला) मुख्यालय, पंचपाखड़ी में झंडा फहराया।





उसके बाद, एक "मशाल रैली" निकाली गई उनका आभार व्यक्त करने के लिए, राष्ट्रपिता महात्मा जी को राकांपा पार्टी कार्यालय अंधे उद्यान, तलावपाळी, ठाणे के बीच एक "मशाल रैली" का आयोजन किया गया। इस रैली में पांच सौ से अधिक कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। रैली पंचपखाड़ी, आगरा रोड, राममूर्ति रोड, साईं कृपा होटल, तलावपाळी तक गई और महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने विसर्जित की गई। इस अवसर पर कार्यकर्ता द्वारा जय हिंद, वंदे मातरम, भारत माता की जय जैसे नारे लगाए गए।



इस मौके पर डॉ. जितेंद्र अवध ने कहा कि हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने स्वतंत्रता आंदोलन में अपने जीवन का बलिदान दिया उन्होंने लाठी डंडों की मार खाई, कारावास का सामना करना पड़ा और यहां तक कि सीने में गोलियां भी काई। हमें यह आजादी हजारों-लाखों लोगों के बलिदान से मिली है। इस आजादी को कायम रखना हम सबका दायित्व है। अगर हम महात्मा गांधी और पंडित नेहरू के सपनों का भारत बनाना चाहते हैं, तो हमें जातिगत मतभेदों को खत्म करना होगा। हमें उस भारत के निर्माण के लिए लड़ना होगा जो युवा चाहता है।

Updated : 2022-08-15T17:49:35+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top