Home > न्यूज़ > आबकारी विभाग द्वारा 06 माह में वार्षिक राजस्व लक्ष्य 42,500 करोड़ के सापेक्ष 20,500 करोड़ राजस्व अर्जन का लक्ष्य- नितिन अग्रवाल

आबकारी विभाग द्वारा 06 माह में वार्षिक राजस्व लक्ष्य 42,500 करोड़ के सापेक्ष 20,500 करोड़ राजस्व अर्जन का लक्ष्य- नितिन अग्रवाल

किसी भी प्रकार से भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जायेगाआबकारी राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) नितिन अग्रवाल ने की विभागीय समीक्षा बैठक। प्रवर्तन के कार्य को और कारगर बनाया जाये तथा अवैध मदिरा के उत्पादन पर पूरी तरह से अंकुश लगाते हुए दोषियों के विरूद्व कड़ी कार्यवाही की जाये- नितिन अग्रवाल

आबकारी विभाग द्वारा 06 माह में वार्षिक राजस्व लक्ष्य 42,500 करोड़ के सापेक्ष 20,500 करोड़ राजस्व अर्जन का लक्ष्य- नितिन अग्रवाल
X

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के आबकारी राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) नितिन अग्रवाल ने आज यहां गन्ना संस्थान में आयोजित आबकारी विभाग की 06 माह की कार्ययोजना के संबंध में की गई समीक्षा बैठक में अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि निर्धारित लक्ष्य को शत-प्रतिशत राजस्व संग्रहण पर बल देना अति आवश्यक है, ताकि प्रदेश के विकास कार्यों को और तीव्र गति मिल सके। आबकारी विभाग द्वारा 06 माह में वार्षिक राजस्व लक्ष्य 42,500 करोड़ के सापेक्ष 20,500 करोड़ राजस्व अर्जित करना निश्चित किया गया है। निर्धारित लक्ष्य से अधिक राजस्व प्राप्त करना हमारी प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि विभाग में किसी भी प्रकार से भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। यदि किसी अधिकारी के खिलाफ वित्तीय अनियमितता, भ्रष्टाचार या कार्यो में लापरवाही की शिकायत प्राप्त होती है, तो उसके विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी।


आबकारी मंत्री ने कहा कि 100 दिवस की कार्ययोजना के अन्तर्गत जो राजस्व की प्राप्ति हुई है वह अत्यंत सराहनीय है। मुख्यमंत्री जी को विभाग से बहुत अपेक्षाएं हैं। राजस्व अर्जन में आबकारी विभाग का प्रमुख स्थान है और सरकार की प्रभावी नीतियों के तहत पिछले पांच वर्षों में आबकारी विभाग द्वारा उल्लेखनीय राजस्व अर्जित किया गया है। श्री अगवाल ने विभागीय अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि पॉश मशीन द्वारा बीयर की सेलिंग 15 अगस्त तक करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, जिसको पूर्ण कराना सुनिश्चित करें, अन्यथा कड़ी कार्यवाही होगी। समीक्षा बैठक के दौरान आबकारी मंत्री ने कहा कि प्रवर्तन के कार्य को और कारगर बनाया जाये तथा अवैध मदिरा के उत्पादन पर पूरी तरह से अंकुश लगाते हुए दोषियों के विरूद्व कड़ी कार्यवाही की जाये। उन्होंने दूसरे पड़ोसी राज्यों से बिना सीमा शुल्क दिये आ रही मदिरा के व्यापार पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने के निर्देश दिये। इसके साथ ही दुकानों की नियमित चेकिंग सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिये।

बैठक के दौरान अपर मुख्य सचिव आबकारी, संजय आर. भूसरेड्डी ने 06 माह की कार्ययोजना के संबंध में मंत्री जी को विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि सभी विभागीय अधिकारी 06 इकाइयों की आसवनी स्थापित करने, 07 आसवनियों का कन्सट्रक्सन पूर्ण कराकर उत्पादन प्रारम्भ कराया जाना, 01 ब्रेवरी का कन्सट्रक्सन पूर्ण कराकर उत्पादन प्रारम्भ कराया जाना, 01 इकाई को वाइनरी स्थापित करने, वार्षिक उत्पादन लक्ष्य 140 करोड़ ब.ली. के सापेक्ष 75 करोड़ ब. ली. एथेनॉल का उत्पादन व बीयर की 06 माइक्रो ब्रेवरी की स्थापना करने के लिए युद्धस्तर पर कार्य करेंगें। उन्होंने प्रदेश सरकार की मंशा के अनुरूप दिये गये लक्ष्य को पूरा करने के लिए मंत्री जी को आश्वस्त किया।

आबकारी आयुक्त, सेंथिल पंडियन सी.ने राजस्व प्राप्तियों की जानकारी देते हुए बताया कि माह जुलाई, 2022 तक 12,974.32 करोड़ रूपये की प्राप्ति हुई, जो गत वर्ष की तुलना में 16.21 प्रतिशत राजस्व की वृद्धि हुई है। उन्होंने प्रवर्तन कार्य की जानकारी देते हुए बताया कि जुलाई, 2022 तक कुल 6,958 अभियोग पकड़े गये और 1,81,407 लीटर अवैध शराब पकड़ी गई। 2,344 व्यक्तियों को गिरफ्तार कर 757 व्यक्तियों को जेल भेजा गया। जबकि गत वर्ष इस अवधि में कुल 5,170 अभियोग पकड़े गये थे। साथ ही 516 व्यक्तियों को जेल भेजा गया । बैठक में अपर आबकारी आयुक्त श्री दिव्य प्रकाश गिरि, अपर आबकारी आयुक्त, डॉ. योगेन्द्र सिंह, संयुक्त आबकारी आयुक्त, राजेश मणि त्रिपाठी के साथ अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

Updated : 2022-08-06T08:48:56+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top