Home > न्यूज़ > Special Report : 9 लोगों की हत्या, वास्तव में क्या हुआ था? सांगली के म्हैसाल में

Special Report : 9 लोगों की हत्या, वास्तव में क्या हुआ था? सांगली के म्हैसाल में

सांगली के म्हैसल में एक ही परिवार के नौ सदस्यों की हत्या कर दी गई है। इसके पीछे का कारण गुप्त धन बताया जा रहा है। लेकिन यह घटना कैसे हुई और इसके लिए कौन जिम्मेदार है, इस पर हमारे संवाददाता सागर गोटपागर की म्हैसाल से ग्राउंड रिपोर्ट.

Special Report : 9 लोगों की हत्या, वास्तव में क्या हुआ था? सांगली के म्हैसाल में
X

सांगली: "एक दिन पहले, पाँच-छह बजे तक सब हँसते-खेलते रहे। सारे नारियल छिल रहे थे, लगभग ग्यारह नारियल थे। जिससे साफ लग रहा था कि घर में आज कोई पूजा पाठ होने वाला है। उस रात करीब 10 बजे के बाद उसके घर की लाइट बंद थी खिडकी दरवाजे भी बंद थे। रोज सुबह वनमोर परिवार रेखा वाहिनी से दूध लेने आती थी, लेकिन घटना वाले दिन वो दूध लेने नहीं आई तब मैं उनके घर गया तो खिडकी दरवाजे बंद थे। खिड़की से अंगर झांककर देखा तो मैं घबरा गया इसलिए मैंने तुरंत वनमोर परिवार चचेरे भाई अनिल वनमोर को इसकी जानकारी दी जो एक फोटोग्राफर है। फोन पर उनसे कहा कि कोई अंदर से दरवाजा नहीं खोल रहा है। " माणिक वनमोर के बगल में रहने वाले चौंडजे ने मैक्स महाराष्ट्र को बताया कि कैसे म्हैसाल में चौंकाने वाली घटना सामने आई।




चौंडजे ने अनिल वनमोर को फोन कर सूचना दी तो वह अपनी पत्नी के साथ घर पहुंचे। फिर उसने देखा कि उसके सामने क्या था अपने शब्दों में "दस मिनट में हम फोन कॉल के तुरंत बाद घर पहुंचे। हमने पिछला दरवाजा खुला देखा। जब हम उस दरवाजे से अंदर गए, तो हमने पोपट वानमोर के बेटे शुभम को देखा जो बेशुध्द लेटा हुआ था, हम चौंक गए। उनका भाई संजू वनमोर गिरा पडा था। जब वे घर के और अंदर गए, तो उन्होंने देखा कि सब मर चुके थे। रसोई में शुभम, बेडरूम में उनकी बेटी, नीचे गिरी पडी है, और दादी के हॉल में, सब लोग थे इस तरह अलग-अलग कमरों में मरे लेटे पडे हुए थे। हमने तुरंत पुलिस को फोन किया।"




माणिक वनमोर और पोपट वनमोर दो भाई हैं। दोनों के घर अलग-अलग थे। पोपट वनमोर राजधानी होटल के पीछे की कॉलोनी में रहता था। पोपट वनमोर का पुत्र शुभम माणिक वनमोर के घर पर मृत पाया गया। वहां उनके घर में उनके माता-पिता और बेटी की इसी तरह मरी हुई हो गई। हम घर पर यह पता लगाने पहुंचे कि शुभम रात को यहां क्यों आया था। आसपास पूछताछ करने पर कुछ स्थानीय लोगों का कहना है कि रात करीब 11 बजे शुभम की कार की आवाज सुनाई दी। शुभम की कार का नंबर MH10AG3389 माणिक वनमोर के घर से मिलने से ऐसा लगता है कि शुभम रात में किसी को साथ में लेकर माणिक वनमोर के घर गया था।




शुभम सब्स्टीट्यूट ड्राइवर का काम करता था। यहां के लोगों का कहना है कि उन्होंने सबसे पहले एक तांत्रिक की आवाज सुनी थी। उनके घर से कुछ तंत्र मंत्र की आवाजे आ रही थी।। स्थानीय लोगों के अनुसार तांत्रिक पहले शुभम के पिता और फिर उसके चचेरे भाई के पास पहुंचा होगा। शिवशंकर कॉलोनी में रहने वाले शुभम के पड़ोसी मच्छिंद्र कर्पे कहते हैं, ''शुभम बादली ड्राइविंग के लिए सोलापुर जाता था। वह दो साल से इस मंत्र का अभ्यास कर रहा था। मैंने उसके पिता को ऐसी बातों पर विश्वास न करने को कहा था.''

हमने यह सुनिश्चित करने के लिए घर के परिसर का निरीक्षण किया कि घटना से एक दिन पहले शाम को माणिक वनमोर के परिवार के सदस्य नारियल छीलते हुए देखे गए थे। घर की बायीं दीवार पर छिलके वाले नारियल केसर का ढेर लगा हुआ था। ऐसा लगता है कि केसर लगभग दस से बारह नारियल का होना चाहिए। सवाल उठता है कि उन्हें इतने सारे नारियल क्यों छीलने चाहिए थे? पुलिस ने अनुमान लगाया था कि यह घटना एक आत्महत्या थी। तदनुसार, सुसाइड नोट में मिले 25 निजी ऋणदाताओं के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। इनमें से 19 आरोपितों को भी गिरफ्तार किया गया है। जिला पुलिस प्रमुख दीक्षित गेदाम के अनुसार, पुलिस ने डायन से गुप्त रूप से पैसे देने के लिए पैसे लिए और फिर पूरे परिवार को जहरीली दवा देकर मार डाला।

गुप्त धन के लालच ने एक सुशिक्षित परिवार को खो दिया।दोनों परिवार उच्च शिक्षित थे। माणिक वनमोर स्वयं पशु चिकित्सक थे और तोता वनमोर शिक्षक। वनमोर की बेटी कोल्हापुर के एक बैंक में काम करती थी। दोनों परिवार आराम से जीवन व्यतीत कर रहे थे। लेकिन गुप्त धन की लालसा ने दोनों परिवारों को आहत किया। उसने डायन का कर्ज चुका दिया। सूत्रों ने जानकारी दी है कि पुलिस जांच में यह निष्कर्ष निकला है कि जादूगर ने 19 जून को ही जहरीला पदार्थ देकर 9 लोगों की हत्या कर दी थी, जब वह गुप्त धन देने के लिए पूजा करने आया था। तांत्रिकों को चुकाने के लिए परिवार ने निजी कर्जदाताओं से कर्ज भी लिया था। यह पैसा इन तात्रिकों को गुप्त धन के लालच में दिया गया था।

म्हैसाल में उजागर हुए निजी साहूकार गांव के एक निवासी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि गांव में 25 फीसदी लोग निजी कर्ज देने में लगे हुए हैं. पुलिस ने घटना में तांत्रिक मोहम्मद बगवान और उसके ड्राइवर धीरज सुरवासे को गिरफ्तार किया है। गुप्त धन के लालच में नौ लोगों की हत्या कर दी गई। इन दो तांत्रिकों के अलावा क्या इस घटना में कोई और शामिल है? उन्होंने कितना चार्ज किया? पुलिस इस बात का पता लगाने में जुटी है कि इस काम में किसी स्थानीय लोगों ने उनकी मदद तो नहीं की। यह अंधविश्वास अभी भी समाज में गहराई से निहित है।

यह इस घटना से जाहिर होता है। अंधविश्वास विरोधी कानून के अस्तित्व के बावजूद ऐसी चीजें हो रही हैं। इसलिए सरकार अभी भी इस कानून को लागू करने और जन जागरूकता पैदा कराने में कम पड़ रही है। यह घटना साबित करती है कि उच्च शिक्षित परिवारों में कार्यरत लोग भी ऐसी प्रथाओं में विश्वास करते हैं। सरकार को समाज में जागरूकता पैदा करने और कानून को लागू करने के लिए पहल करने की जरूरत है। घटना के बाद पुलिस अधीक्षक दीक्षित गेडाम से लेकर कई वरिष्ठ ने म्हैसाल घटना स्थल का मुआयना किया था। अगर इस गौर नहीं किया जाता तो तांत्रिक की कहानी कभी बाहर नहीं आती और ९ लोगों की हत्या आत्महत्या बनकर पुलिस फाइल में बंद हो जाती।




Updated : 2022-07-01T12:09:20+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top