Top
Home > न्यूज़ > शिवाजी नगर ट्रैफिक चौकी के बगल के सहारे पुलिस ने सुलझाई गुत्थी

शिवाजी नगर ट्रैफिक चौकी के बगल के सहारे पुलिस ने सुलझाई गुत्थी

शिवाजी नगर ट्रैफिक चौकी के बगल के सहारे पुलिस ने सुलझाई गुत्थी
X

छह माह से गायब राजस्थान पहुंची, मारिया लौटेगी मुंबई

तारिक़ खान
मुंबई. शिवाजी नगर पुलिस ने मुंबई से लापता और राजस्थान में लावारिस हालत में छह माह बाद मिली एक मंदबुद्धि महिला को सिर्फ 5 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद उसके परिजन से मिला कर अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभाई है। है। मंदबुद्धि की महिलाअपने परिवार की पहचान के साथ-साथ सब कुछ भूल गई थी।शिवाजी नगर पुलिस थाने के पुलिस उप निरीक्षक (मिसिंग स्कॉट चीफ) सुभाष हामरे ने बताया कि यह महिला कैथोलिक समाज से ताल्लुक रखती है वह अपना नाम मारिया बताती थी। राजस्थान के भवानी मंडी रेलवे स्टेशन पुलिस थाने से सूचना मिली की तीन दिन पहले एक महिला लावारिस हालत में मिली, पुलिस ने गांव के अन्य लोगों के सहयोग से उसके परिवार वालों की तलाश शुरू की, लेकिन कुछ पता नहीं चला चूंकि महिला मंदबुद्धि है। पूछताछ करने पर उसने सिर्फ इतना बताया कि उसे "शिवाजी नगर ट्रैफिक चौकी के बगल में" याद है।इसके बाद भवानी मंडी रेलवे स्टेशन पुलिस थाने ने मुंबई पुलिस से संपर्क किया। शिवाजी नगर पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक किशोर गायके व सहाय्यक पुलिस निरीक्षक संतोष नरुटे और सहायक पुलिस निरीक्षक नवनाथ काले के मार्गदर्शन में शिवाजी नगर पुलिस थाने के पुलिस उप निरीक्षक सुभाष हामरे और कॉन्स्टेबल तांदेल ने बिना कोई सुराग और पहचान के जांच शुरू की। सुभाष हामरे ने बताया कि हमने गोवंडी व शिवाजी नगर सहित उन इलाकों में पूछताछ की जहां कैथोलिक समाज के लोग रहते थे,लेकिन कोई सुराग हाथ नहीं लगा, क्योंकि पुलिस के पास मारिया की पुरानी नहीं मौजूदा समय की फोटो थी, जिसको देख महिला की पहचान करना नामुमकिन था।

महिला मंदबुद्धि हैलापता होने की भी नहीं थी शिकायत दर्ज

मुंबई शहर के कई पुलिस थानों के मिसिंग (लापता) लोगो की लिस्ट में भी देखा लेकिन मारिया की कोई मिसिंग शिकायत नहीं दर्ज थी,पंतनगर पुलिस थाने के अंतर्गत आने वाले इलाके में महिला के सास और ससुर मिले और उन्होंने महिला की पहचान मारिया फर्नांडिस के रूप में की। छह माह पहले ही घर से मारिया अचानक कहीं चली गई थी और मंदबुद्धि होने की वजह से इन लोगों ने पुलिस में उसकी शिकायत दर्ज नहीं कराई थी। मारिया के माता-पिता गोवंडी के शिवाजी नगर इलाके में रहते थे, लेकिन उनका भी देहांत हो चुका है। सुभाष हामरे ने बताया कि हमने मारिया के परिवार और राजस्थान पुलिस दोनों को एक दूसरे से संपर्क करा दिया है और जल्द मारिया अपने परिवार के पास लौट आएगी। अभी उसका राजस्थान के हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है। छह माह में मारिया का फेस काफी बदल चुका है।

Updated : 17 July 2020 11:58 PM GMT
Next Story
Share it
Top