Home > न्यूज़ > पंढरी के पथ पर संविधान दिंडी..

पंढरी के पथ पर संविधान दिंडी..

पंढरपुर: पंढरपुर में विट्ठल मंदिर एक बौद्ध मठ है जिसके खंभों पर बुद्ध के शब्द उकेरे गए हैं। इस धम्म यात्रा के आयोजक भंते ज्ञान ज्योति महास्थविर ने कहा, इसलिए हमने लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए भीमा कोरेगांव से पंढरपुर तक एक धम्म यात्रा शुरू की है। हमारे प्रतिनिधि अशोक कांबले की ग्राउंड रिपोर्ट।

पंढरी के पथ पर संविधान दिंडी..
X

पंढरपुर: शहर का एक लंबा इतिहास है और इसका नाम "पुंढरिक" था। संत तुकाराम महाराज कहते हैं, "जेव्हा नव्हते चराचर तेव्हा वसवले पंढरपुर" "पंढरपुर की स्थापना तब हुई जब चरचर नहीं थे। " पंढरपुर शहर की स्थापना 'पुंढरिक महा धम्मरक्षित नामक अर्हद भिक्षुक ने की थी। अतीत में, पंढरपुर बौद्ध भिक्षुओं का केंद्र था। यहां से साधु पूरे देश में जाकर धम्म का प्रचार करते थे और वर्षा ऋतु के प्रारंभ में विहार आते थे। बौद्ध भिक्षु मठ में लगभग चार महीने तक रहे। इस बीच, गांवों के लोग यहां आते थे और बारिश के मौसम के लिए पंढरपुर से साधुओं को अपने गांव ले जाते थे। उनसे ज्ञान लेना। पंढरपुर में विट्ठल की मूर्ति भगवान गौतम बुद्ध की है, जैसा कि डॉ बाबासाहेब अम्बेडकर ने 1954 में देहू रोड, पुणे में गौतम बुद्ध की मूर्ति की जगह लेते हुए कहा था। पंढरपुर में विट्ठल मंदिर एक बौद्ध मठ है जिसके स्तंभों पर बुद्ध के शब्द उकेरे गए हैं। इसलिए हमने लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए भीमा कोरेगांव से पंढरपुर तक धम्म यात्रा शुरू की है, इस धम्म यात्रा के आयोजक भंते ज्ञान ज्योति महास्थविर ने कहा कि जुलूस का समापन विट्ठल मंदिर के बाहर बुद्ध की पूजा के साथ होगा।

प्राचीन काल में आषाढ़ी पूर्णिमा के दिन लोग पंढरपुर से बौद्ध भिक्षुओं को गांव लेकर आते थे

इस अवसर पर बोलते हुए, भंते ज्ञान ज्योति महास्थविर ने कहा कि आषाढ़ी पूर्णिमा पर, महाराष्ट्र से लोग पंढरपुर आते थे और बौद्ध भिक्षुओं को बरसात के मौसम में अपने गांव ले जाते थे। उन्हें बरसात के मौसम के अंत तक तीन से चार महीने तक उनके गांव में रखा गया था। अपने गाँव में ज्ञान का प्रसार करने के बाद, कार्तिक पूर्णिमा के दिन भिक्षुओं को पंढरपुर ले आता। इस कार्तिक पूर्णिमा कार्यक्रम को महाप्रवर्ण दिवस के रूप में मान्यता दी गई थी, जो एक कठिन दान वर्षा समारोह था। उस समय पूरे महाराष्ट्र से लोग कार्तिक पूर्णिमा पर पंढरपुर आते थे।




पंढरपुर में ऐसा भव्य और दिव्य आयोजन हुआ करता था। प्रतिक्रान्ति के बाद लोग सब कुछ भूल गए। पहले मध्य प्रदेश के नकोदर में बौद्ध भिक्षु रहते थे। यहीं से ये लोग पंढरपुर आते थे। यहां संत ज्ञानेश्वर के पिता निवृतिनाथ महाराज रह रहे थे। उसके गले में 108 मनके थे। इस मंजिल के पैसे गिनते हुए वे कहते थे, 'मैं बुद्ध के दर्शन के लिए धम्म नगरी जाता हूं'। पंढरपुर के बौद्ध भिक्षु धम्म का प्रचार करने के लिए पूरे देश में जाते थे। इसलिए देश भर से लोग यहां आते नजर आ रहे हैं। कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु आदि से लोग यहां प्राचीन काल से आते रहे हैं।

विट्ठल शब्द एक पारभासी शब्द है

भांते कहते हैं कि विट्ठल शब्द पाली भाषा का है। उस समय पंढरपुर महान वैभव का केंद्र था। इसलिए लोग यहां किसी न किसी मकसद से आते थे। लोग वर्तमान में पांडुरंगा जाते हैं, लेकिन यह आध्यात्मिक है। वे नहीं जानते कि विट्ठल की मूर्ति बुद्ध की मूर्ति है। तुकाराम ने कहा है कि अध्यात्म को अंतर्मुखी समझना चाहिए। सभी संतों की गाथाओं में धार्मिक भजन देखने को मिलते हैं। ये गाथाऐं धम्म पिटक से ली गई हैं। वे बुद्ध के विचार हैं। इसलिए संतों द्वारा सुनाई गई गाथा का अर्थ ठीक से समझना चाहिए।




भविष्य में, हर कोई बौद्ध धर्म स्वीकार करेगा

वारकरियों को क्रोध, घृणा और प्रलोभन पर विजय प्राप्त करनी चाहिए। मन को शांत करो। इसलिए मनुष्य को मनुष्य के साथ मनुष्य जैसा व्यवहार करना पड़ता है। आपको नुकसान नहीं होगा और दूसरों को नुकसान नहीं होगा। ऐसा व्यवहार करें जिससे आपको और दूसरों को फायदा हो। टूटे हुए दिलों को मिलाने के सिद्धांतों के साथ सामाजिक क्रांति के अभियान के साथ हम पंढरपुर के लिए निकल पड़े हैं। हम इस जगह पर लोगों को जोड़ने जा रहे हैं। पूरे अभियान के बाद सुनामी लहरें धर्मांतरण की ओर बढ़ेगा, क्योंकि तेली, माली, कोली आदिवासी और देश के सभी गैर-ब्राह्मण समुदाय बौद्ध धम्म में शामिल होंगे और बौद्ध धर्म ग्रहण करेंगे।

आषाढ़ी पूर्णिमा का महत्व

आषाढ़ी पूर्णिमा को आशिक हो कहा जाता है। बुद्ध जब भी उठते हैं, तभी से बुद्ध के जन्म की कहानी शुरू होती है। आषाढ़ी पूर्णिमा पर, बुद्ध अपनी माता की गोद में प्रवेश करते हैं, जिस दिन दस महीने की गर्भ में उसी दिन यह आषाढ़ी पूर्णिमा होती है। 29 साल की उम्र में घर छोड़ने पर बौद्ध यही करते हैं, ऐसा वे आषाढ़ी पूर्णिमा पर करते हैं। तीसरी घटना यह है कि बौद्ध धर्म की प्राप्ति के बाद इसी पूर्णिमा को धम्म चक्र की दीक्षा दी जाती है। इस पूर्णिमा को भिक्षु संघ की उत्पत्ति होती है और पांचवीं घटना इस पूर्णिमा पर वर्षा ऋतु की शुरुआत है। इसलिए इस पूर्णिमा का इतना खास महत्व है।

Updated : 2022-07-09T20:50:32+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top