Home > न्यूज़ > मुंबई महानगरपालिका आपदा ऐप हुआ टाय टाय फिस्स... मुंबईकरों को धोखे रखा बीएमसी ने, लोगों का गुस्सा सातवें आसमान...

मुंबई महानगरपालिका आपदा ऐप हुआ टाय टाय फिस्स... मुंबईकरों को धोखे रखा बीएमसी ने, लोगों का गुस्सा सातवें आसमान...

मुंबई महानगरपालिका आपदा ऐप हुआ टाय टाय फिस्स... मुंबईकरों को धोखे रखा बीएमसी ने, लोगों का गुस्सा सातवें आसमान...
X

मुंबई: बारिश के दिनों के चलते कुछ इलाकों में गहरा पानी जमा हो रहा है। बीएमसा ने एक आपदा ऐप लॉन्च किया ताकि मुंबई वासियों को रुके हुए पानी से परेशानी न हो। ऐप पर नागरिकों द्वारा बीएमसी से मदद करने की गुहार लगाने की कोशिश की लेकिन मुंबई में जमा पानी और सड़क के गड्ढों से नागरिकों को असुविधा का ही सामना करना पड़ा क्यों ऐप पर कोई रिस्पांस ही नहीं मिल रहा था। फिर क्यों लॉन्च किया गया लाखों के खर्च करके एप। देखिए मैक्स महाराष्ट्र की खास रिपोर्ट



मुंबई में इस समय भारी बारिश हो रही है, इसलिए मुंबई के कुछ निचले हिस्सों में रहने वालों को बरसाती पानी के कारण दिक्कतों का सामना करते देखा गया। मुंबई वासियों को परेशानी हुई है, इसलिए मुंबई के लोगों को बड़ी परेशानी को देख बीएमसी के ऐप का सहारा लेना चाहा तो उसका कोई रिस्पांस ही नहीं नहीं मिला। मुंबई में कुछ दिन पहले हुई भारी बारिश के कारण हिंदमाता सर्कल, किंग्स सर्कल, सायन, वडाला, अंधेरी सबवे आदि में कम पानी जमा हो गया। इससे स्थानीय लोगों को परेशानी हुई, इसलिए कुछ नागरिकों ने बीएमसी के डिजास्टर ऐप पर अपनी समस्याएं उठाने चाहा तो उन्हें कोई रिस्पांस नहीं होने मिला। अब लोगों ने बीएमसी ऐप को फर्जी करार करते हुए मुंबईकरों के साथ विश्वासघात बताया है।





लोगों के मन में यह धारणा थी कि बीएमसी के इस ऐप से मुंबई में कहां पर भी पानी जमा नहीं होगा कहीं सड़कों पर गड्ढों नहीं होंगे उनकी शिकायतें सुनी जाएगी लेकिन ऐसा कुछ नहीं देखने को मिला। पहली ही मुंबई की बारिश के पानी को रोकने के लिए बीएमसी के न कामयाब उपाय हो गए। लेकिन हर बार बीएमसी विफल रहने के बाद भी दावे बारिश के पहले बहुत सी लोगों के सामने लाती है। इसका सामना इस बार बीएमसी को करना पड सकता है लोग पहली ही बरसात में काफी परेशान हो चुके है। हम इस बारे में बीएमसी के अधिकारियों से फोन पर पूछा वह यह ऐप में एक तकनीकी समस्या बता रहे है।लेकिन सवाल यह उठता है कि बरसात के पहले आपने जो मुद्वादा के सामने रखकर उसकी कसौटियों पर खरे नहीं उतरे तो अब आप क्या कह रहे? कि हम एक नया ऐप बनाएंगे? तो अब कितने दिनों तक मुंबईकरों को राह देखनी पड़ेगी.......



मुंबई महानगरपालिका ने मुंबईकरों से किया था यह दावा

मुंबई महानगरपालिका के एक वरिष्ठ नागरिक अधिकारी ने बताया कि इसे वेबसाइट और पॉट होल फिक्सिट pothole fixit मोबाइल ऐप पर डाला जाएगा। मानसून के दौरान शहर की सड़कों पर गड्ढों के मामले में, केवल संबंधित अधिकारियों को सूचित करना होता है। लेकिन वह काम समय लेने वाला है। इसलिए मुंबई महानगरपालिका अब गड्ढों की शिकायतों के लिए एक वेबसाइट और एक पॉट होल फिक्सिट मोबाइल ऐप लॉन्च करेगी।



अब सड़कों पर गड्ढों के बारे में शिकायत दर्ज करना आसान हो जाएगा। पिछले कई सालों से मूसलाधार बारिश के बाद सड़कों पर जोरदार बारिश गिरने के लिए दोनों सिस्टम सालों से एक-दूसरे को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। एमएमआरडीए शहर की मुख्य सड़कों पर रखरखाव करता है जहां बुनियादी ढांचे का काम चल रहा है। जबकि मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) शेष सड़कों का रखरखाव करती है। बीएमसी जल्द ही महानगर पालिका के वार्डो के अधिकारी के साथ साथ मुंबई महानगर क्षेत्र विकास प्राधिकरण के अधिकारियों के नामों और संपर्क नंबरों की एक विस्तृत सूची प्रकाशित करेगा, जो ऐसी शिकायतों पर ध्यान देंगे।

Updated : 2022-07-10T20:01:59+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top