Home > न्यूज़ > उद्धव ठाकरे के बाद एकनाथ शिंदे का इमोशनल कार्ड, प्रिय शिवसैनिकों, एमवीए के खेल को पहचानिए...

उद्धव ठाकरे के बाद एकनाथ शिंदे का इमोशनल कार्ड, प्रिय शिवसैनिकों, एमवीए के खेल को पहचानिए...

शिवसैनिकों के लिए एकनाथ शिंदे का एक भावनात्मक संदेश

उद्धव ठाकरे के बाद एकनाथ शिंदे का इमोशनल कार्ड, प्रिय शिवसैनिकों, एमवीए के खेल को पहचानिए...
X

मुंबई: महाराष्ट्र की राजनीति में जारी राजनीतिक उठापटक के बीच शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे ने शिवसैनिकों से मुलाकात की है. उद्धव ठाकरे के बाद शिवसैनिकों के खिलाफ इमोशनल कार्ड खेलते हुए एकनाथ शिंदे ने महा विकास अघाड़ी सरकार को शिवसेना के सिद्धांतों के खिलाफ करार दिया है. एकनाथ शिंदे ने हाल ही में एक ट्वीट में लिखा, प्रिय शिवसैनिकों, एमवीए के खेल को अच्छी तरह से समझो और पहचानो...!

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की शिवसेना और खुद को बालासाहेब का शिवसेना का सिपाही बताने वाले एकनाथ शिंदे के बीच अब न सिर्फ महाराष्ट्र में बल्कि किसकी पार्टी सत्ता में होगी इसे लेकर जंग छिड़ गई है. एकनाथ शिंदे पहले ही कह चुके हैं कि वह एक सच्चे शिवसैनिक हैं न कि उद्धव जो मौजूदा प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस और राकांपा से हाथ मिला कर सत्ता में आए हैं। एकनाथ शिंदे ने पहले अपने समूह को शिवसेना के बालासाहेब के रूप में नई पार्टी के रूप में नामित किया है। जिसके खिलाफ शिवसेना ने चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाने का फैसला किया है।

शिवसैनिकों के लिए एक भावनात्मक संदेश

एकनाथ शिंदे ने मुंबई में शिवसैनिकों के एकीकरण के बीच उद्धव ठाकरे से भी शिवसैनिकों का समर्थन करने की अपील की है। अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा, "प्रिय शिवसैनिकों, अच्छी तरह से समझें, एमवीए के खेल को पहचानें..! मैं शिवसेना और शिव सैनिकों को ड्रैगन की तरह एमवीए के चंगुल से मुक्त करने के लिए लड़ रहा हूं, यह लड़ाई आपको समर्पित है। जबकि कल कार्यकारिणी की बैठक में ही उद्धव ठाकरे यह भावनात्मक संदेश के जरिए बागी विधायकों के लिए शिव सैनिक ....से अपील कर चुके है।

इससे पहले शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने भी शिवसैनिकों से भावनात्मक अपील की थी। उन्होंने बार-बार शिंदे समूह पर पैसे के आधार पर शिवसेना को धोखा देने का आरोप लगाया है, पहले फेसबुक पर लाइव आकर और फिर कार्यकर्ताओं और शिवसेना नेताओं के साथ नियमित बैठक कर उद्धव ठाकरे कह चुके है कि अगर किसी शिवसैनिक को इससे कोई दिक्कत है तो वह सीएम और शिवसेना अध्यक्ष की कुर्सी छोड़ने को तैयार हैं।

Updated : 2022-06-26T21:28:57+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top