Top
Home > News Window > जब 14 संशोधन को तैयार है सरकार तो इस कानून को ही क्यों नहीं खत्म कर देती: सुरजेवाला

जब 14 संशोधन को तैयार है सरकार तो इस कानून को ही क्यों नहीं खत्म कर देती: सुरजेवाला

जब 14 संशोधन को तैयार है सरकार तो इस कानून को ही क्यों नहीं खत्म कर देती: सुरजेवाला
X

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि अगर सरकार 14 संशोधन करने को तैयार है तो इस कानून को ही खत्म क्यों नहीं करती है. किसान पंचायत में शिरकत करते हुए उन्होंने कहा कि मोदी सरकार को किसानों को टरकाना और उनसे टकराना बंद करना चाहिए. रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कोविड काल में सरकार रात के अंधेरे में इस काले कानून को लेकर क्यों आई. क्या किसी किसान संगठन ने इसकी मांग की थी, क्या किसी राजनीतिक दल ने इसकी मांग की थी. इसका बीजेपी के पास कोई जवाब नहीं है.

कांग्रेस नेता ने कहा कि देश का एक भी किसान संगठन बताएं जो इन कृषि कानूनों के पक्ष में हो, सभी संगठन इस कानून को वापस लेने की मांग कर रहे हैं, फिर मोदी सरकार इससे इनकार क्यों कर रही है. कांग्रेस के घोषणापत्रों में मंडी सुधारों का जिक्र रहने पर रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि इस बात को लेकर झूठ फैलाया जा रहा है. हमने कहा था कि हम APMC को मजबूत करेंगे. अभी मंडियां 30 से 50 किलोमीटर के दायरे में है, इसे हम नजदीक के गांवों में लाएंगे. कृषि व्यवसाय का पूरे 25 लाख करोड़ का कृषि व्यवसाय देश के 5 उद्योगपतियों को देने की तैयारी हो रही है. क्या कांग्रेस ने कोई ऐसा काला कानून बनाया है.

उन्होंने कहा कि सरकार पहले तो इन काले कानूनों को खत्म करे फिर अगर उसे इस पर चर्चा करनी है तो संसद में किसान प्रतिनिधियों और दूसरे राजनीतिक दलों से चर्चा करे. सुरजेवाला ने कहा कि जब मंडियां खत्म हो जाएंगी तो किसानों को MSP मिलेगा कहां, उन्हें देगा कौन. इन सवालों का सरकार के पास कोई जवाब नहीं है. जब MSP पर सरकार अनाज खरीदेगी ही नहीं तो कोटा दुकानों में गरीबों को 2 रुपये किलो चावल मिलेगा कैसे? सरकार कृषि कानूनों में 14 संशोधन करने को तैयार है, इसका मतलब ये है कि कानून में गड़बड़ी है, अगर सरकार 14 संशोधन करने को तैयार है तो कानून ही खत्म क्यों नहीं करती है।

Updated : 12 Dec 2020 12:05 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top