Home > News Window > विनायक मेटे दुर्घटना के बाद 2 घंटे तक कोई मदद नहीं, मराठा क्रांति मोर्चा का आरोप, मदद से पहुंची सच्चाई आई सामने?

विनायक मेटे दुर्घटना के बाद 2 घंटे तक कोई मदद नहीं, मराठा क्रांति मोर्चा का आरोप, मदद से पहुंची सच्चाई आई सामने?

विनायक मेटे दुर्घटना के बाद 2 घंटे तक कोई मदद नहीं, मराठा क्रांति मोर्चा का आरोप एकदम सही है पुलिस प्रेस नोट में पुलिस एक घंटे बाद पहुंची। टोल नाका का सीसीटीवी और घायलावस्था में विनायक मेटे को अस्पताल पहुंचाने में काफी समय लग गया। मैक्स महाराष्ट्र के पास टोल नाका का वो सीसीटीवी और पुलिस टाइम सूचि हो जो एक्सीडेंट के दौरान पुलिस ने रिपोर्ट की है। 

विनायक मेटे दुर्घटना के बाद 2 घंटे तक कोई मदद नहीं, मराठा क्रांति मोर्चा का आरोप, मदद से पहुंची सच्चाई आई सामने?
X

मुंबई: मराठा क्रांति मोर्चा ने संदेह जताया है कि शिव संग्राम संगठन के अध्यक्ष विनायक मेटे की दुर्घटना के पीछे किसी की हत्या है. मराठा आरक्षण को लेकर पुणे में मराठा संगठनों की बैठक का आयोजन किया गया. विनायक मेटे जब इस सभा में जा रहे थे, तभी सड़क पर हादसा हो गया। इसलिए मराठा क्रांति मोर्चा के आबासाहेब पाटील ने इस हादसे के पीछे घात लगाकर हमला करने की आशंका जताई हैष यह भी मांग की गई थी कि अगर सरकार विनायक मेटे को सच्ची श्रद्धांजलि देना चाहती है, तो उसे तुरंत मराठा समुदाय को ओबीसी में शामिल करना चाहिए।


विनायक मेटे की आकस्मिक मौत से महाराष्ट्र के सभी नेताओं की आंखें हुई नम, हर नेता ने दी भावपूर्ण श्रद्धांजलि अंतिम संस्कार बीड में कल





इस समय यह भी आरोप लगाया गया था कि मराठा रक्षा के लिए 42 पीड़ित मारे गए हैं, जिनमें से विनायक मेटे 43 वें शिकार हैं। यह कहते हुए कि मराठा समुदाय ने अब तक शांतिपूर्ण तरीकों से अपनी मांग रखी है, कि विनायक मेटे की दुर्घटना की जांच की जानी चाहिए, यह मांग की गई कि विनायक मेटे की कार मराठा आरक्षण बैठक में जाने के कारण दुर्घटना हुई और दो घंटे तक उन्हें मदद नहीं मिल सकी। जबकि टोल नाके के सीसीटीवी से साफ पता चल रहा है कि सुबह 4 बजकर 54 मिनट पर टोल नाके को क्रॉस करके विनायक मेटे और वहां पर दुर्घटना हुई। पुलिस को सूचना मिली कि 05:05 बजे सूचना मिली पुलिस मदद के लिए पहुंची तो 06:05 हो गया था, विलंब हुआ इसमें कोई दो राय नहीं है इसलिए इसकी जांच स्वाभाविक है।

टोलनाका सीसीटीवी


उधर, मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने भी सुबह मामले की जांच के लिए तत्परता दिखाई है। नेता विपक्ष अजित पवार ने भी अपना रुख व्यक्त किया है कि यदि ऐसा संदेह व्यक्त किया जाता है, तो सरकार को जांच करनी चाहिए और सच्चाई सामने लानी चाहिए।

पुलिस रिपोटिंग टाइम




पुलिस का स्पाट पंचनामा सुबह 7 बजे हुआ शुरू


शिव संग्राम भवन कार्यालय में कार्यकर्ताओं की भीड़; कार्यकर्ताओं के आंखों से छलके आंसू

बीड में शिवसंग्राम के संस्थापक अध्यक्ष विनायक मेटे की आकस्मिक मौत की खबर सामने आते ही उनके समर्थक शिव संग्राम भवन कार्यालय पहुंचे. दुर्घटनावश उनकी मौत हो गई और खबर पाकर कार्यकर्ता आंसू बहा रहे हैं। भाई राम हरि मेटे शिवसंग्राम भवन पहुंचे हैं और यहां उनका शोक सभा का आयोजन किया।


Updated : 2022-08-14T20:09:24+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top