Top
Home > News Window > शूद्र को शूद्र कहने पर बुरा मान जाते हैं कारण क्या है? भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर

शूद्र को शूद्र कहने पर बुरा मान जाते हैं कारण क्या है? भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर

शूद्र को शूद्र कहने पर बुरा मान जाते हैं कारण क्या है? भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर
X

सीहोर। भोपाल से भारतीय जनता पार्टी की सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर अक्सर अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहती हैं. उन्होंने सीहोर में एक क्षत्रिय सम्मेलन में शिरकत की और वहां उन्होंने समाज के लोगों को संबोधित किया. सांसद ने कहा, 'हमारे धर्म शास्त्रों में समाज की व्यवस्था के लिए 4 वर्ग तय किए गए हैं. क्षत्रिय को क्षत्रिय कह दो, बुरा नहीं लगता है. ब्राह्मण को ब्राह्मण कह दो, बुरा नहीं लगता. वैश्य को वैश्य कह दो, बुरा नहीं लगता. शूद्र को शूद्र कह दो, बुरा लग जाता है. कारण क्या है, क्योंकि नामसझी है, क्योंकि समझ नहीं पाते हैं।

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने आगे कहा कि उन लोगों पर जनसंख्या नियंत्रण नियम लागू होना चाहिए, जो राष्ट्र के खिलाफ काम करते हैं. उन्होंने कहा कि देश की रक्षा करने वालों के खिलाफ कोई कानून नहीं होना चाहिए. दिल्ली में जारी किसान आंदोलन पर वह कहती हैं कि लेफ्ट पार्टियों और कांग्रेस द्वारा इस आंदोलन को नियंत्रित किया जा रहा है प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि कृषि कानूनों में बदलाव की कोई जरूरत नहीं है और जो लोग विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, उन्हें जेल भेजना चाहिए. उन्होंने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह का नाम लिए बगैर कहा कि भगवा संगठनों को आतंकवादी कहने वाले लोग क्षत्रिय नहीं हो सकते. ऐसे लोगों को राजा नहीं कहा जाना चाहिए।

Updated : 2020-12-13T16:00:46+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top