Top
Home > News Window > जो काम 25-30 साल पहले हो जाने चाहिए थे, उसे आज करनी की नौबत आई है - PM MODI

जो काम 25-30 साल पहले हो जाने चाहिए थे, उसे आज करनी की नौबत आई है - PM MODI

MSP हटानी होती तो क्यों लागू करते स्वामीनाथन रिपोर्ट

जो काम 25-30 साल पहले हो जाने चाहिए थे, उसे आज करनी की नौबत आई है - PM MODI
X

नई दिल्ली: देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज मध्यप्रदेश में किसानों को संबोधित कर रहे है. साथ ही पीएम के साथ मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान भी किसानों के सामने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए सीधा प्रसारण कर रहे है. बताते चलें कि दिल्ली में चिल्ला बॉर्डर समेत सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों के बीच पीएम एमपी वीडियो के जरिए अन्नदाताओं को संबोधित कर रहे है. प्रदेश की लगभग 23 हज़ार ग्राम पंचायतों में इसका सीधा प्रसारण हो रहा है.

बतातें चलें कि पीएम का यह संबोधन वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हो रहा है. इस संबोधन में एमपी के सीएम के साथ –साथ जिला मुख्यालयों में राज्य सरकार के मंत्री और भाजपा के विधायक मौजूद है. साथ ही आपको बताते चलें कि मध्य प्रदेश में आज यानी शुक्रवार को आयोजित होने वाले किसान सम्मेलनों में खरीफ 2020 में हुए फसलों के नुकसान की 1600 करोड़ रुपये की राहत राशि राज्य के लगभग 35.50 लाख किसानों के खातों में डाली जाएगी.

आपको बता दें कि 35 लाख किसानों में 1600 करोड़ रुपये वितरित किए जाएंगे. इस दौरान 35 लाख किसानों के बीच फसल हानि की भरपाई के मदद में 1,600 करोड़ रुपये दिए जांएगे. इस वर्चुअल संवाद के लिए व्यापक व्यवस्था की गई है. राज्य की 23 हजार ग्राम पंचायतों में प्रधानमंत्री के संबोधन का सीधा प्रसारण किया जा रहा है. इसी के साथ पीएम मोदी इस कार्यक्रम में किसानों को नए कृषि कानूनों के फायदे बता रहे है. आंदोलनों के बीच सरकार अलग-अलग राज्यों के किसान संगठनों को साधने में जुटी है. इस क्रम में बुधवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने पांच करोड़ गन्ना किसानों को सब्सिडी देने और पुरानी सब्सिडी का एक हफ्ते के अंदर भुगतान करने की घोषणा की थी.

Updated : 18 Dec 2020 9:22 AM GMT
Next Story
Share it
Top