Top
Home > News Window > वाझे ही नहीं इन पर भी गिरेगी गाज? NIA दफ्तर में चार अफसर,राउत ने केंद्रीय एजेंसियों पर उठाए सवाल

वाझे ही नहीं इन पर भी गिरेगी गाज? NIA दफ्तर में चार अफसर,राउत ने केंद्रीय एजेंसियों पर उठाए सवाल

वाझे ही नहीं इन पर भी गिरेगी गाज? NIA दफ्तर में चार अफसर,राउत ने केंद्रीय एजेंसियों पर उठाए सवाल
X

मुंबई। अंबानी के घर के बाहर से बरामद हुई संदिग्ध कार के मामले में सचिन वाझे की टीम में शामिल अधिकारियों पर भी गाज गिर सकती है। मुंबई पुलिस के क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट के चार सदस्य जो कि वाझे की टीम का हिस्सा थे, पूछताछ के लिए NIA ऑफिस आज पहुंचे हुए हैं। इस मामले में पुलिस ऑफिसर सचिन वाझे को एनाआईए ने गिरफ्तार कर लिया है। इस मामले में वाझे की गिरफ्तारी खुद मुंबई पुलिस पर सवाल उठा रही है। दूसरी ओर वाझे की गिरफ्तारी के बाद राजनीति भी शुरू हो गई है। वाझे की गिरफ्तारी पर शिवसेना नेता और सांसद संजय राउत ने उन्हें एक ईमानदार और सक्षम अधिकारी करार दिया। संजय राउत ने कहा है कि संदिग्ध कार और जिलेटिन की छड़े बरामद होने की घटना की जांच मुंबई पुलिस और एटीएस भी कर सकती थी। उन्होंने केंद्रीय जांच एजेंसी पर सवाल उठाते हुए कहा कि एंटीलिया के बाहर कार में मिली जिलेटिन की झणों की जांच मुंबई पुलिस की जिम्मेदारी थी, इसके लिए किसी राष्ट्रीय एजेंसी की कोई जरूरत नहीं थी।

केंद्रीय एजेंसियां बार-बार मुंबई में प्रवेश करती हैं

एंटीलिया के बाहर कार में मिली जिलेटिन की झणों की जांच मुंबई पुलिस की जिम्मेदारी थी, इसके लिए किसी राष्ट्रीय एजेंसी की कोई जरूरत नहीं थी। हम एनआईए का सम्मान करते हैं, पर हमारी पुलिस भी इसकी जांच कर सकती थी। उन्होंने कहा कि केंद्रीय एजेंसियां बार-बार मुंबई में प्रवेश करती हैं और पुलिस का मनोबल गिराती है। यह राज्य में अस्थिरता पैदा करती हैं और मुंबई पुलिस और प्रशासन पर दबाव बनाती है। उद्योगपति मुकेश अंबानी के मुंबई स्थित घर 'एंटीलिया' के बाहर मिली कार के कथित मालिक मनसुख हिरेन की मौत मामले में विवादों में घिरे पुलिस अधिकारी सचिन वाझे से 12 घंटे की पूछताछ के बाद एनआईए ने शनिवार देर रात गिरफ्तार कर लिया। एएनआई ने यह भी बताया कि वाझे को आईपीसी की धारा 286, 465, 473, 506(2), 120 B और विस्फोटक पदार्थ अधिनियम 1908 की धारा 4(a)(b)(I) के तहत गिरफ्तार किया गया है। उनपर या धाराएं 25 फरवरी को मुकेश अंबानी के घर के बाहर विस्फोटक से भरी कार को प्लांट करने में शामिल होने के आरोप में लगाए गए हैं।

BJP ने की नार्को टेस्ट की मांग

वाजे की गिरफ्तारी की बाद भारतीय जनता पार्टी का बयान आया है. भाजपा ने सचिन वाजे की नार्को टेस्ट की मांग की है.भाजपा प्रवक्ता ने बयान जारी करते हुए कहा, 'आखिरकार सचिन वाजे को एनआईए ने गिरफ्तार कर ही लिया. क्या अब सचिन वाजे को बचाने वाली शिवसेना की सरकार देश से माफी मांगते हुए सचिन वाजे का नार्को टेस्ट करेगी? हमारी मांग है कि सचिन वाजे का नार्को टेस्ट किया जाए. ताकि पत्ता चले महाराष्ट्र सरकार उसे बचाना क्यों चाहती थी? ऐसे किंन नामों को महाराष्ट्र सरकार बचाना चाहती हैं? शिवसेना और महाराष्ट्र सरकार का असली चेहरा लोगों के सामने आए।

Updated : 2021-03-14T13:38:12+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top