Top
Home > News Window > पुरोगामी महाराष्ट्र की प्रतिमा को झटका,चरित्र सिद्ध करने के लिए महिला की ली गई अग्निपरीक्षा

पुरोगामी महाराष्ट्र की प्रतिमा को झटका,चरित्र सिद्ध करने के लिए महिला की ली गई अग्निपरीक्षा

पुरोगामी महाराष्ट्र की प्रतिमा को झटका,चरित्र सिद्ध करने के लिए महिला की ली गई अग्निपरीक्षा
X

-शिवाजी काले-

उस्मानाबाद। एक महिला को अपनी पवित्रता सिद्ध करने के लिए खौलते तेल में हाथ डालना पड़ा। परंडा में रहने वाली महिला चार दिन घर से गायब थी। जब वह वापस आई, तो उसके पति ने खौलते तेल में हाथ डालकर पांच रुपए का सिक्का निकालने को कहा। पति ने अपने मोबाइल से वीडियो बनाया। महिला का पति ड्राइवर है और 11 फरवरी को मायके जाने की बात पर दोनों के बीच झगड़ा हुआ था। इसके बाद महिला बिना किसी को बताए घर से उस्मानाबाद के लिए निकल गई।

महिला का पति उसे तलाशता रहा। चार दिन बाद महिला घर लौटी, तो उसने बताया कि ​​​परंडा के खासापुरी चौक पर बस का इंतजार करते समय बाइक पर आए दो लोग उसे जबरन साथ ले गए थे। उन्होंने बंधक बनाकर रखा। महिला पारधी समुदाय से है। इस समुदाय में सच बुलवाने के लिए भगवान का नाम लेकर खौलते हुए तेल से सिक्का निकालने की कुप्रथा रही है। माना जाता है कि अगर सिक्का निकालने वाला झूठ बोल रहा है, तो उसका हाथ जलेगा और तेल से आग निगलेगी।

इसी मान्यता के आधार पर महिला के पति ने उसकी अग्निपरीक्षा ली। वीडियो में महिला का पति ये कहते हुए सुनाई दे रहा है, 'मेरी पत्नी का कहना है कि उसे एक आदमी और एक पुलिस वाला अपने साथ ले गए और उसके साथ कुछ नहीं किया। मैं यह जानना चाहता हूं कि क्या मेरी पत्नी सच बोल रही है। इसलिए मैं ऐसा कर रहा हूं।

इस मामले में आईपीसी के साथ-साथ जाति पंचायत उन्मूलन अधिनियम की धारा 338 के तहत अपराध दर्ज करने की बात पुलिस अधीक्षक तेजस्वी सातपुते ने कही है। सभी मामलों में दो पुलिस अधिकारियों को आरोपित किया गया है। भगवान धनवे और पुलिस कर्मी दोनों हत्यारों के नाम हैं। महिला के मुताबिक, उसे पुलिस ने धमकी दी थी। महिला ने कहा है कि उसके साथ एक पुलिस आरोपी ने बलात्कार किया था। उनके बारे में कहा जाता है कि उन्हें पुलिसकर्मी धनवे ने मदद की थी।

Updated : 2021-02-23T17:36:00+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top