Home > ट्रेंडिंग > महाराष्ट्र सरकार के 1 साल पूरे, शिवसेना ने फिर छेड़ा 15 लाख का मुद्दा

महाराष्ट्र सरकार के 1 साल पूरे, शिवसेना ने फिर छेड़ा 15 लाख का मुद्दा

महाराष्ट्र सरकार के 1 साल पूरे, शिवसेना ने फिर छेड़ा 15 लाख का मुद्दा
X

मुंबई। महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे सरकार ने अपना एक साल पूरा कर लिया है. पर बीजेपी का हमला जारी है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे भी पार्टी के मुखपत्र सामना के माध्यम से 'हर भारतीय के खाते में 15 लाख' का मुद्दा फिर छेड़ दिया है. तो बीजेपी भी कई मामलों पर सरकार को घेर रही है. इन सबके बीच एक साल पूरा होने के एवज में सीएम उद्धव ठाकरे ने पत्रकारों से बात की. जहां उन्होंने सरकार की तारीफ की है. बीजेपी के विरोध के अलावा सरकार ने दूसरी कई परेशानियों का सामना किया है.सीएम उद्धव ठाकरे ने एक साल के कामकाज को लेकर कहा कि हर तरह के संकटों का मुकाबला करते हुए महाविकास आघाड़ी ने एक साल पूरा कर लिया है.

कोरोना के कारण राज्य की प्रगति थम सी गई है. कोरोना ने विकास की गति रोक दी है. कोरोना के कारण दुनिया की प्राथमिकताएं बदल गई है. इसमें महाराष्ट्र भी आया ही. उन्होंने ये भी कहा कि राज्य के नागरिकों को कोरोना से बचाना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता रही है और आगे भी रहेगी.बीजेपी पर हमला करते हुए उद्धव ने कहा कि विरोधी दल ने जो रास्ता अपनाया है, वह राज्य के विकास की गति को पूरी तरह से रोकने वाला है. उन्होंने ये भी कहा कि विरोधियों ने नई तरह की मानवतारहित राजनीति शुरू की है. भारतीय जनता पार्टी जैसे लोग दूसरों के कंधे पर बंदूक रखकर निशाना साधते रहते हैं. बिजली बिल के संदर्भ में जो मोर्चे निकाले जा रहे हैं और सरकारी कार्यालयों में जो तोड़-फोड़ शुरू है,

यह उसी का एक अंग है.पीएम मोदी को कटघरे में खड़ा करते हुए उद्धव ने कहा कि 2015 में पीएम मोदी ने हर नागरिक के खाते में 15 लाख डालने का आश्वासन पूरा कर दिया तो महाराष्ट्र की जनता और किसानों को सड़कों पर उतरकर आंदोलन नहीं करना पड़ेगा. उन्होंने ये भी कहा कि विरोधी दल मंत्रालय की सीढ़ियों पर साल भर से खड़ा है और अगले चार साल भी उन्हीं सीढ़ियों के सहारे उन्हें खड़ा रहना होगा. सीढ़ी खराब हो सकती है लेकिन तीन दलों की महाविकास आघाड़ी सरकार नहीं गिरेगी.पूर्व सीएम देवेन्द्र फडनवीस ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि सरकार ने कुछ काम नहीं किया है. सरकार बस सारा ठीकरा कोरोना पर फोड़ रही है. उन्होंने कहा कि उद्धव सरकार पत्रकार अर्नब गोस्वामी और अभिनेत्री कंगना रनौत के साथ जो व्यवहार की है वो निदंनीय है. देवेनद्र फडनवीस ने यह भी कहा कि, हमने कभी व्यक्तिगत हमले नहीं किए. बल्कि शिवसेना के नेताओं ने मेरी पत्नी पर हमला किया है।

Updated : 2020-11-28T17:45:03+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top