Top
Home > News Window > दिवाली पर आई खुशखबरी, दिसंबर में भारत को 10 करोड़ डोज !

दिवाली पर आई खुशखबरी, दिसंबर में भारत को 10 करोड़ डोज !

दिवाली पर आई खुशखबरी, दिसंबर में भारत को 10 करोड़ डोज !
X

फाइल photo

ब्लूमबर्ग/दिल्ली। दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन निर्माता कंपनी दिसंबर तक भारत को एस्ट्राजेनेका कोविड-19 टीके के 10 करोड़ डोज भारत को उपलब्ध कराने की तैयारी में है। भारत में कोरोना टीकाकरण की शुरुआत हो सकती है। कंपनी के सीईओ अदार पूनावाला ने कहा है कि यदि फाइनल स्टेज ट्रायल के डेटा में यह वैक्सीन प्रभावी पाई जाती है तो सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया लिमिटेड को आपतकालीन मंजूरी मिल सकती है। सीरम इंस्टीट्यूट ने एस्ट्राजेनेका के साथ कम से कम 1 अरब डोज तैयार करने का समझौता किया है। पूनावाला ने एक इंटरव्यू में कहा कि शुरुआत में वैक्सीन भारत को दिया जाएगा।

अगले साल की शुरुआत में पूर्ण मंजूरी के बाद दक्षिण एशियाई देशों और कोवाक्स के साथ 50-50 आधार पर वितरण हो सकेगा। कोवाक्स की ओर से करीब देशों के लिए कोरोना वैक्सीन की खरीद की जा रही है। सीरम ने पांच वैक्सीन डिवेलपर्स के साथ समझौता किया है। कंपनी पिछले दो महीनों में एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के 4 करोड़ डोज तैयार कर चुकी है और नोवावाक्स इंक के टीके का उत्पादन भी जल्द शुरू करने का लक्ष्य है। 9 वर्षीय पूनावाला ने कहा, ''हम कुछ चिंतित थे, यह एक बड़ा जोखिम था। लेकिन एस्ट्राजेनेका और नोवावाक्स के शॉट अच्छे दिख रहे हैं।'' कोविड-19 वैक्सीन के लिए दुनिया भारत की ओर देख रही है, जहां सबसे अधिक वैक्सीन उत्पादन की क्षमता है। एस्ट्राजेनेका के सीईओ पासकल सोरियट ने कहा कि वह दिसंबर से बड़े पैमाने पर टीकाकरण की तैयारी कर रहे हैं।

एक बार यदि ब्रिटेन से इसे आपतकालीन मंजूरी मिल जाती है, सीरम उसी डेटा को भारतीय समकक्ष को सौंपेगी। वैक्सीन निर्माताओं को अब डेटा मिल रहे हैं, जिससे पता चलेगा कि उनका टीका कितना काम कर रहा है। लेकिन अभी कई बाधाएं बाकी हैं। एस्ट्रा और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी को अभी परीक्षण के परीणाम देखने हैं। और यदि उनका वैक्सीन प्रभावी साबित भी हो जाती है और नियामकों से मंजूरी मिल जाती है तो सवाल होगा कि कितनी आसनी और जल्दी से टीकों का वितरण किया जा सकता है। पूनावाला ने दोहराया कि पूरी दुनिया को 2024 तक ही टीका मिल पाएगा और दो साल यह देखने में लगेगा संक्रमण में वास्तव कितनी कमी आई है। पूनावाला ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि शुरुआत में वैक्सीन फ्रंटलाइन वर्कर्स और जोखिम वाले लोगों को दिया जाएगा। 130 करोड़ आबादी वाले देश में सबका टीकाकरण एक चुनौती होगी।

Updated : 2020-11-14T10:00:22+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top