Home > News Window > Pune News:बेटे को पढ़ाने के खातिर बर्तन धोए,भूखे पेट सोई मां,अब बेटा बना डॉक्टर

Pune News:बेटे को पढ़ाने के खातिर बर्तन धोए,भूखे पेट सोई मां,अब बेटा बना डॉक्टर

Pune News:बेटे को पढ़ाने के खातिर बर्तन धोए,भूखे पेट सोई मां,अब बेटा बना डॉक्टर
X

मुंबई। कल्पना आढाव 14 सालों से पिंपरी-चिंचवड़ पालिका अस्पताल के बाहर कॉन्ट्रैक्ट पर सुरक्षा गार्ड की नौकरी कर रही हैं। हर दिन डॉक्टर्स को आता-जाता देख उन्होंने भी तय किया कि वे भी अपने बेटे अमित को डॉक्टर बनाएंगी। अमित पढ़ने में होनहार था पर मेडिकल की तैयारी के लिए अच्छी कोचिंग की जरूरत थी, जिसके बाद कल्पना ने लोगों के घरों में बर्तन धोने का काम शुरू कर दिया।

कल्पना के इस प्रयास से अमित ने इसी साल अपना MBBS पूरा किया है वे इंग्लैंड जा रहे हैं। कल्पना ने तय किया है कि अपने बेटे को इंग्लैंड भेज कर ही रहेंगी। चाहे इसके लिए उन्हें अपना सब कुछ बेचना क्यों न पड़े। उन्होंने बताया, 'मैं पूरी कोशिश कर रही हूं कि बेटे को विदेश भेज सकूं। मैं लोगों से अपील करती हूं कि मेरी मदद को आगे आएं। मैंने अपने जीवन में बहुत कष्ट देखे हैं, कल्पना अपने बेटे के साथ एक झुग्गी में रहती हैं। अमित सिर्फ एक महीने का था जब उसके पिता दोनों को छोड़ कर चले गए थे।

पति के जाने के कई साल बाद उन्हें हॉस्पिटल के बाहर गार्ड की नौकरी मिली। इस काम से फ्री होकर कल्पना लोगों के घरों में बर्तन धोने का काम करती थीं। कल्पना ने बताया कि फिलहाल उनका बेटा एक प्राइवेट हॉस्पिटल में इंटर्नशिप कर रहा है। MS की पढ़ाई के लिए उनका एडमिशन हो चुका है लेकिन उनके पास फिलहाल बेटे को इंग्लैंड भेजने के लिए पैसे नहीं है। कल्पना ने राज्य सरकार और प्रधानमंत्री मोदी से गुहार लगाई है।

Updated : 2021-03-07T12:39:13+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top