Top
Home > ट्रेंडिंग > किसान नेताओं ने कहा,अभी तक कुछ नया नहीं है,वहीं पुरानी बातें कर रहे हैं मंत्री

किसान नेताओं ने कहा,अभी तक कुछ नया नहीं है,वहीं पुरानी बातें कर रहे हैं मंत्री

किसान नेताओं ने कहा,अभी तक कुछ नया नहीं है,वहीं पुरानी बातें कर रहे हैं मंत्री
X

फाइल photo

नई दिल्ली। पिछले 9 दिनों से धरने पर बैठे किसानों के साथ केंद्र सरकार की शनिवार को पांचवे दौर की बातचीत जारी है. दिल्ली के विज्ञान भवन में 40 किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ हो रही इस बातचीत के लिए केंद्र की तरफ से केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, रेल, वाणिज्य और खाद्य मंत्री पीयूष गोयल तथा वाणिज्य राज्य मंत्री सोम प्रकाश मौजूद हैं. पांचवें दौर की बातचीत से आज इस मुद्दे के समाधान को लेकर सभी आशांवित है. लेकिन टी ब्रेक तक किसान संगठनों और सरकार के बीच किसी भी तरह की कोई सुलह होती नहीं दिख रही है. अब इस बैठक का सबसे निर्णायक चरण जारी है. हो सकता है इस फेस में सरकार कोई निर्णय ले ले.

बैठक में कृषि मंत्रालय ने गुरुवार को चौथे दौर की वार्ता के दौरान सरकार के समक्ष पेश किए गए 39 बिंदुओं को चर्चा के लिए टेबल किया है. इन बिंदुओं को गुरुवार को चौथे दौर की बातचीत के दौरान किसानों ने उठाया था. सरकार ने कहा था किसानों की शिकायतों पर सरकार विचार कर सकती है, संशोधन कर सकती है. लेकिन किसानों ने इससे इनकार कर दिया था. किसान यूनियन के सूत्रों ने बताया, "अभी तक कुछ नया नहीं है, पुरानी ही बाते कर रहे हैं मंत्री, टी ब्रेक के बाद शायद सरकार अपने पत्ते खोले..."

ऑल इंडिया किसान सभा के बालकरण सिंह बरार ने कहा, "सरकार ने संशोधन का जो प्रस्ताव रखा था उसको हम नहीं मानेंगे. हम ये तीनों कानून वापस कराएंगे और हमारी आठ मांगे हैं उन्हें पूरा कराएंगे फिर आंदोलन वापस लेंगे. ये तीनों कानून खेती को पूजीवादियों को सौंपने की तैयारी है." इससे पहले लंच ब्रेक तक भी किसान संगठन और केंद्र सरकार के बीच किसी भी तरह की सहमति बनती नहीं दिखी. आज एक बार फिर किसान नेताओं ने सरकार का खाना नहीं खाया. उन्होंने गुरुद्वारे से आए लंगर का खाना ही खाया।

Updated : 2020-12-05T20:53:21+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top