Top
Home > News Window > हैदराबाद में बाजीगर बनकर उभरी बीजेपी के लिए क्या दक्षिण का दूसरा दरवाजा खुलनेवाला है?

हैदराबाद में बाजीगर बनकर उभरी बीजेपी के लिए क्या दक्षिण का दूसरा दरवाजा खुलनेवाला है?

हैदराबाद में बाजीगर बनकर उभरी बीजेपी के लिए क्या दक्षिण का दूसरा दरवाजा खुलनेवाला है?
X

फाइल photo

ग्रेटर हैदराबाद। नगर निगम चुनाव में 150 में से 146 सीटों के नतीजे आ गए हैं. टीआरएस ने 56 सीटों पर जीत हासिल की है. वहीं, AIMIM को 42 और बीजेपी को 46 सीटों पर जीत मिली है. जबकि कांग्रेस के खाते में सिर्फ 2 सीट आई है। रुझानों में उलटफेर के बाद टीआरएस ने बढ़त तो बढ़ा ली है, लेकिन बीजेपी बाजीगर बनकर उभरी है. इस शानदार जीत के बाद सवाल उठता है कि क्या दक्षिण के दुर्ग का दूसरा दरवाजा बीजेपी के लिए जल्द ही खुलने वाला है.

क्या कर्नाटक के बाद बीजेपी दक्षिण के दूसरे राज्यों में भी सत्ता के शिखर पर पहुंचने में कामयाब हो जाएगी. चुनाव तो वैसे नगर निगम का था लेकिन रोमांच किसी लोकसभा-विधानसभा चुनाव से कम नहीं. बीजेपी ने ताकत झोंकी तो नतीजे भी गवाही देने लगे. दक्षिण के दुर्ग में दूसरा दरवाजा खोलने की बीजेपी की रणनीति काम कर गई. देश के सबसे बड़े नगर निगम में से एक ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम का सियासी रसूख ही कुछ ऐसा है कि इस दुर्ग में जगह बनाना बीजेपी के लिए जरुरी था.

यह नगर निगम 4 जिलों में है, जिनमें हैदराबाद, मेडचल-मलकजगिरी, रंगारेड्डी और संगारेड्डी शामिल हैं. पूरे इलाके में 24 विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं तो तेलंगाना की 5 लोकसभा सीटें आती हैं. यही वजह है कि ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में केसीआर से लेकर बीजेपी, कांग्रेस और असदुद्दीन ओवैसी तक ने दिन रात एक कर दिया, लेकिन पिछली बार हाशिये पर खड़ी बीजेपी ने इस बार कमाल कर दिया. बीजेपी के शानदार परफॉर्मेंस का असर ये होगा कि दक्षिण में कर्नाटक के बाद तेलंगाना, तमिलनाडु और केरल में पैर पसारने में बीजेपी को राहत रहेगी।

Updated : 4 Dec 2020 3:06 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top