Top
Home > News Window > कोरोना वैक्सीन को ब्रिटेन में मिली मंजूरी, भारत में भी वैक्सीन को लेकर बढ़ी आसार

कोरोना वैक्सीन को ब्रिटेन में मिली मंजूरी, भारत में भी वैक्सीन को लेकर बढ़ी आसार

कोरोना वैक्सीन को ब्रिटेन में मिली मंजूरी, भारत में भी वैक्सीन को लेकर बढ़ी आसार
X

मुंबई : यूनाइटेड किंगडम ने ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन को इस्तेमाल करने की मंजूरी दे दी है. बता दें कि कुछ ही दिनों में ब्रिटेन के लोगों को ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन की खुराक मिलनी शुरू हो जाएगी. इसी के साथ ब्रिटेन से मंजूरी मिलने के बाद भारत में भी उम्मीदें बढ़ गई है, क्योंकि यहां इस्तेमाल के लिए अप्रूवल की लाइन में ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन सबसे आगे खड़ी है.वैसे तो ब्रिटेन ने सबसे पहले फाइजर की कोरोना वैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाजत दी थी, जिसके बाद 7 लाख से ज्यादा लोगों को फाइजर वैक्सीन की पहली डोज दी जा चुकी है. इस बीच ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन को भी ब्रिटेन ने मंजूरी दे दी गई है. इसका मतलब है कि यह टीका सुरक्षित और प्रभावी दोनों है. ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन निर्माता कंपनी एस्ट्राज़ेनेका को ब्रिटेन ने 100 मिलियन डोज का ऑर्डर दिया है.

इसके बाद 50 मिलियन लोगों को टीका लगाया जाएगा. तो वहीं, भारत में भी अगले हफ्ते तक ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाजत मिल सकती है. भारत में इस वैक्सीन को ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के साथ मिलकर सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) बना रही है. SII के CEO अदार पूनावाला ने कहा था कि "कोविशील्ड की 4-5 करोड़ खुराक का भंडारण किया गया है." उन्होंने कहा कि "एक बार जब उन्हें मंजूरी मिल जाती है, तो यह सरकार को तय करना होगा कि वे कितनी वैक्सीन ले सकते हैं और कितनी तेजी से. इसके साथ ही SII प्रमुख ने दावा किया कि हम जुलाई 2021 तक लगभग 30 करोड़ खुराक का उत्पादन करेंगे." उन्होंने ये भी दावा किया है कि हम जो भी बनाएंगे उसका 50 प्रतिशत हिस्सा भारत को और बाकी का हिस्सा 'कोवाक्स' को देते रहेंगे. 2021 के पहले छह महीनों में वैश्विक स्तर पर वैक्सीन की कमी भी देखी जाएगी, लेकिन हम अगस्त-सितंबर 2021 तक थोड़ी राहत देखेंगे


Updated : 30 Dec 2020 9:13 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top