Home > News Window > एंटीलिया केस में केंद्र-राज्य सरकार आमने-सामने,पर गड़बड़ क्या है?

एंटीलिया केस में केंद्र-राज्य सरकार आमने-सामने,पर गड़बड़ क्या है?

एंटीलिया केस में केंद्र-राज्य सरकार आमने-सामने,पर गड़बड़ क्या है?
X

मुंबई। मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर स्कॉर्पियो में जिलेटिन की छड़ें मिलने की जांच अब राष्ट्रीय जांच एजेंसी करेगी। इस मामले में महाराष्ट्र एटीएस भी जांच कर रही है। ऐसे में अब एक बार फिर केंद्र और राज्य सरकार आमने-सामने आ गई हैं। स्कॉर्पियो मालिक मनसुख हीरेन की मौत के मामले में महाराष्ट्र एटीएस ने एक FIR दर्ज की है। ​​​​​जांच में NIA की एंट्री पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि एटीएस मनसुख हीरेन की मौत के मामले की जांच कर रही है। सिस्टम सिर्फ एक आदमी के लिए नहीं है। पिछली सरकार में भी यही सिस्टम था। इसके बावजूद अगर केंद्र सरकार मामले को NIA को सौंपती है, तो इसका मतलब होगा कि कुछ गड़बड़ है।

जब तक हम इसे उजागर नहीं करते, हम हार नहीं मानेंगे। मनसुख के चेहरे पर 5 रूमाल बंधे थे। इसके बाद से उनकी हत्या किए जाने की आशंका व्यक्त की जा रही है। पूर्व मुख्यमंत्री और महाराष्ट्र के नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने भी इस मामले की जांच NIA से करवाने की मांग उठाई थी। एटीएस ने साफ किया है कि मनसुख की मौत के मामले की जांच उसके पास रहेगी। विस्फोटकों की बरामदगी से जुड़ा मामला NIA देखेगी। गृह मंत्री अनिल देशमुख का कहना है कि इस मामले को लेना NIA का अधिकार है, पर महाराष्ट्र पुलिस एटीएस इसकी अच्छी तरह से जांच रही थी। मनसुख हीरेन मामले और कार चोरी की जांच अकेले एटीएस ही करेगी।

Updated : 2021-03-08T19:33:32+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top