Home > News Window > भारत बायोटेक ने पूरा किया 'कोवैक्सिन' का फाइनल फेज-3 का ट्रायल, डेल्टा वेरिएंट पर भी 65.2% फीसदी असरदार

भारत बायोटेक ने पूरा किया 'कोवैक्सिन' का फाइनल फेज-3 का ट्रायल, डेल्टा वेरिएंट पर भी 65.2% फीसदी असरदार

भारत बायोटेक ने पूरा किया कोवैक्सिन का फाइनल फेज-3 का ट्रायल, डेल्टा वेरिएंट पर भी 65.2% फीसदी असरदार
X

मुंबई : हैदराबाद स्थित ''भारत बायोटेक'' ने 'कोवैक्सिन' का फाइनल फेज-3 का ट्रायल पूरा कर लिया है। इस बारे में फार्मास्युटिकल कंपनी भारत बायोटेक ने बताया कि 'कोवैक्सिन' फेज-3 के क्लिनिकल ट्रायल में 77.8% फीसदी असरदार साबित हुई है। प्री-प्रिंट डेटा का हवाला देते हुए भारत बायोटेक ने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सिन के लिए फाइनल ट्रायल पूरा कर लिया गया है। एनालिसिस से पता चला है कि कोवैक्सिन कोरोना के गंभीर मरीजों और कोरोना के डेल्टा वेरिएंट पर भी काफी असरदार है। भारत बायोटेक ने कहा है कि कोवैक्सिन डेल्टा वेरिएंट (SARS-CoV-2, B.1.617.2) के खिलाफ 65.2 प्रतिशत सुरक्षा देता है।

भारत बायोटेक ने आगे कहा कि कोवैक्सिन कोरोना के गंभीर मरीजों के खिलाफ भी 93.4 फीसदी तक प्रभावी है। बता दें कि भारत बायोटेक ने 130 कोरोना के पुष्ट मामलों पर ये ट्रायल किया है।

कोवैक्सिन का डेल्टा वेरिएंट पर प्रभावी होना काफी राहत भरी खबर है। कोरोना का नया डेल्टा वेरिएंट इस समय दुनिया के लिए काफी चिंता का कारण बना हुआ है, ऐसे में इसका डेल्टा वेरियंट पर असरदार होना राहत भरी खबर है।

वहीं, कोवैक्सिन बिना लक्षण वाले कोरोना मरीजों पर 63.6 फीसदी असरदार है। कोवैक्सिन फेज-3 का ट्रायल प्री-प्रिंट सर्वर पर प्रकाशित किया गया है। ट्रायल के लिए भारत के 25 अस्पतालों को चुना गया था। बड़े पैमाने में कोवैक्सिन के फाइनल ट्रायल के लिए डबल-ब्लाइंड, रैंडमाइज्ड, मल्टी-सेंटर क्लिनिकल तैयार किए गए थे। रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्रायल में 18 से 98 वर्ष के आयु वर्ग के मरीजों को शामिल किया गया था।

Updated : 5 July 2021 5:17 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top