Home > News Window > सात बार सांसद रहे मोहन डेलकर सुसाइड मामला,महाराष्ट्र सरकार ने जांच SIT को सौंपी

सात बार सांसद रहे मोहन डेलकर सुसाइड मामला,महाराष्ट्र सरकार ने जांच SIT को सौंपी

सात बार सांसद रहे मोहन डेलकर सुसाइड मामला,महाराष्ट्र सरकार ने जांच SIT को सौंपी
X

मुंबई। महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने मंगलवार को विधानसभा में कहा दादरा एवं नगर हवेली से सात बार सांसद रहे डेलकर का शव 22 फरवरी को मुंबई के एक होटल में पाया गया था। अब इसकी एक विशेष जांच टीम (SIT) करेगी। देशमुख ने कहा, "डेलकर ने अपने सुसाइड नोट में कहा था कि उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है और वह प्रफुल्ल पटेल के दबाव में हैं, जो दादरा एवं नगर हवेली के प्रशासक हैं।"

देशमुख ने कहा कि डेलकर के सुसाइड नोट में यह जिक्र किया गया है कि उन्हें पटेल से यह धमकी मिल रही थी कि उनका सामाजिक जीवन खत्म हो जाएगा। देशमुख ने कहा, "डेलकर की पत्नी और बेटे ने भी मुझे पत्र लिख कर यह चिंता प्रकट की है।"डेलकर का शव मरीन ड्राइव पर होटल सी ग्रीन में मिला था। पुलिस को उस कमरे से गुजराती में लिखा एक सुसाइड नोट भी मिला था। डेलकर की उम्र 58 साल थी। 2019 में वे केंद्र शासित दादरा और नगर हवेली से बतौर निर्दलीय सांसद चुने गए।

1989 में अब तक वे भाजपा, कांग्रेस, भारतीय नवशक्ति पार्टी के उम्मीदवार और निर्दलीय के तौर पर 7 बार लोकसभा के लिए चुने जा चुके थे। उन्होंने 1989 से 2004 तक लगातार 6 बार लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज की थी। डेलकर के परिवार में पत्नी कलाबेन डेलकर, दो बच्चे अभिनव और दिविता हैं। सोमवार को सांसद के बेटे अभिनव डेलकर ने कहा था कि उनके पिता ने स्थानीय लोगों और आदिवासियों के लिए जो काम किए थे, उनके लिए उन्हें लगातार परेशान और दबाव बनाया जा रहा था।

Updated : 2021-03-09T19:20:47+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top