Home > ब्लॉग > जॉनसन एंड जॉनसन का लाइसेंस क्यों रद्द किया, एफडीए कमिश्नर महेश झगडे ने?

जॉनसन एंड जॉनसन का लाइसेंस क्यों रद्द किया, एफडीए कमिश्नर महेश झगडे ने?

सरकार की गतिशील और पारदर्शी प्रशासनिक कार्य की नीति को सख्ती से लागू करने वाले  महेश झगड़े को सरकार ने कई बार उनके पद पर स्थानांतरित कर दिया है। लेकिन अपने फैसले पर वो कभी पलटकर पीछे नहीं, जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी बेबी पाउडर मामले पर पर भी यही हुआ लेकिन वो अडिग रहे।

जॉनसन एंड जॉनसन का लाइसेंस क्यों रद्द किया, एफडीए कमिश्नर महेश झगडे ने?
X

मुंबई: जब आप जॉनसन बेबी पाउडर सुनते हैं, तो आपको बचपन में टीवी पर धारावाहिकों और फिल्मों के ब्रेक के दौरान देखे गए विज्ञापनों को याद आती होगी।। एक छोटा बच्चा रोता और उसकी माँ उसे नहलाने के बाद जॉनसन का बेबी पाउडर लगाती और बच्चा हंसने लगता। हमने भी बचपन में इस पाउडर का प्रयोग किया है। अगर आप भी अपनी माँ से पूछेंगे तो जवाब हाँ होगा। लेकिन अगले साल से यह पाउडर दुनिया भर में बिकने बंद हो जाएगा क्योंकि यह खतरनाक है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि 8 साल पहले एक मराठी अधिकारी ने इस वजह से इस विश्व प्रसिद्ध कंपनी का कारखाना लाइसेंस रद्द कर दिया था। आज हम जानेंगे किअफसर कौन थे।

जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी बेबी प्रोडक्ट बनाने के लिए जानी जाती है। हमने आज तक साबुन, पाउडर, क्रीम, बॉडी लोशन जैसे उत्पादों का इस्तेमाल किया है। लेकिन पाउडर में इस्तेमाल होने वाले एस्बेस्टस के इस्तेमाल की जानकारी सामने आई और हर तरफ हड़कंप मच गया। क्योंकि दुनिया भर में ज्यादातर महिलाएं अपने बच्चों के लिए जॉनसन के बेबी पाउडर का इस्तेमाल करती हैं। इसी वजह से दुनिया भर में अब तक इस कंपनी के खिलाफ 38000 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं और इसलिए कहा जाता है कि कंपनी को यह कदम उठाना पड़ा 2023 से दुनिया भर में जॉनसन के बेबी पाउडर की बिक्री बंद कर दी जाएगी। हालांकि अगले साल से दुनिया भर में बिक्री बंद कर दी जाएगी, लेकिन अमेरिका और कनाडा में इस पाउडर की बिक्री दो साल पहले 2020 में रोक दी गई थी। इससे कंपनी की फैमिली फ्रेंडली इमेज को नुकसान पहुंचा है।





बिल्कुल वही जो कंपनी ने कहा कि इस मामले पर जॉनसन एंड जॉनसन का बयान पढ़ता है, "वैश्विक उत्पाद समीक्षा के हिस्से के रूप में, हमने सभी बेबी पाउडर का उत्पादन बंद करने का फैसला किया है। इस बदलाव के परिणामस्वरूप, जॉनसन बेबी पाउडर को 2023 में विश्व स्तर पर बंद कर दिया जाएगा। सुरक्षा पर हमारी स्थिति नहीं बदला है। हम दुनिया भर के चिकित्सा विशेषज्ञों द्वारा कई दशकों के स्वतंत्र वैज्ञानिक विश्लेषण के पीछे मजबूती से खड़े रहे हैं। जो इस बात की पुष्टि करते हैं कि जॉनसन बेबी पाउडर सुरक्षित है, इसमें कोई एस्बेस्टस नहीं है और इसे गैर-कार्सिनोजेनिक कहा जाता है।"

8 साल पहले लाइसेंस रद्द करने वाला अधिकारी कौन है? इस अधिकारी का नाम सेवानिवृत्त भारतीय प्रशासनिक सेवा IAS अधिकारी महेश झगडे है। जब वह एफडीए कमिश्नर थे, तो उन्होंने कंपनी के उपरोक्त मामले पर ध्यान दिया। इसलिए उन्होंने मुलुंड में कंपनी के कारखाने का लाइसेंस रद्द कर दिया। इस पर उनके वरिष्ठों ने उन्हें आड़े हाथों लिया, अपना निर्णय बदलने के लिए कहा, लेकिन उन्होंने अपना निर्णय नहीं बदला। बल्कि कठोर उत्तर दिया। यही कहानी महेश झगड़े ने ट्विटर पर शेयर की है। "मुलुंड में जॉनसन एंड जॉनसन के कारखाने का लाइसेंस 8 साल पहले रद्द कर दिया गया था जब वह एफडीए आयुक्त थे, क्योंकि कंपनी ने अपने बेबी पाउडर में कैंसर पैदा करने वाले रसायनों का इस्तेमाल किया और भारत में बच्चों के जीवन पर पैसा बनाने के लिए इसके लगभग 60,000 पाउडर के डब्बे बेच कर रोजाना कई लाखों की कमाई कर रही थी।



अब उस कंपनी ने दुनिया भर में इस पाउडर की बिक्री बंद कर दी है। मुझे संतोष है कि उस समय की गई कार्रवाई से कई लोगों की जान बच जाएगी। लेकिन यह दुख की बात है कि उस समय के सर्वोच्च अधिकारी राज्य ने मुझे अच्छी तरह से लिया और कहा "आपने जो किया है वह गलत है, भारत में बहुराष्ट्रीय कंपनियों को ऐसे लाइसेंस रद्द करें। क्या आप कार्रवाई करके भागने वाले हैं? क्या आप कुछ समझते हैं? लाइसेंस रद्द करने का आदेश वापस ले लो!"। मेरा सीधा जवाब था "अगर ये कंपनियां पैसे के लिए बच्चों की जान ले रही हैं, तो ऐसा नहीं होगा!" मैंने लाइसेंस रद्द करने के आदेश को वापस नहीं लिया। आशा है कि आब के अधिकारी अब इसे पढ़ने के बाद कुछ सीख लेगें।




इस कहानी से एक बात साफ है कि हमें लिए गए फैसलों पर अडिग रहना चाहिए। इसे महेश झगड़े की सकारात्मक कार्रवाई की पहल से से देखा जा सकता है, जो अदूरदर्शी हैं।

Updated : 2022-08-14T00:15:18+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top