Top
Home > ब्लॉग > बिहार में बैकफुट पर मोदी-नीतीश

बिहार में बैकफुट पर मोदी-नीतीश

बिहार में बैकफुट पर मोदी-नीतीश
X

फाइल photo

बिहार में चुनाव प्रचार के पहले ही दिन पीएम नरेद्र मोदी ने कह दिया कि यूपीए के दस साल के दौरान नीतीश के काम नहीं करने दिया गया लेकिन ये वो भूल गये कि यूपीए के दौरान नीतीश ने आरजेडी की सरकार बनायी थी और लालू यादव ने नीतीश को समर्थन दिया था और फिर नीतीश ने खुद कभी ऐसी बात नहीं की .तो फिर पीएम बिहार में काम नहीं होने का ठीकरा कांग्रेस के सिर पर क्यों मढ रहे है .साफ नजर आ रहा है कि बिहार में नीतीश कुमार को लेकर पीएम मोदी बैकफुट पर है।

ये बात बीजेपी नीतिश के मेनिफेस्टो में भी नजर आ रही है जिस तरह से तेजस्वी के दस लाख नौकरी के जवाब में 19 लाख नौकरी का वादा किया गया उससे साफ लग रहा है कि बीजेपी को भी इस बात का अहसास हो गया है कि इस बार चुनाव में बेरोजगारी सबसे बड़ा मुददा बन गया है और इस पर सरकार चाह कर भी कुछ नहीं कर पा रही है। कोरोना के मुददे पर पीएम मोदी और नीतिश दोनों सफाई दे रहे है कि पलायन करने वाले मजदूरों को बचाने के लिए क्या किया गया .लेकिन पलायन की तस्वीर बहुत पुरानी नही हुई है. इसी हडबडी में अचानक मेनिफेस्टों में ये कहना पडा कि कोरोना की वैक्सीन अगर आयी तो सबसे पहले बिहार को मिलेगी और वो भी मुफ्त .असल में इस बात को लेकर बीजेपी और नीतीश जमकर ट्रोल हो रहे है.

राहुल गांधी ने तो यहां तक कह दिया है कि क्या कोरोना वैक्सीन तभी मिलेगी जब राज्य में चुनाव होगा। असल में इस बात का जवाब तो इसका ऐलान करने वाली वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन के पास भी नहीं है कि आखिर ऐसा कैसे होगा कि वैक्सीन जब आयेगी तो केवल बिहार के लोगों को ही पहले क्यों मिलेगी और क्या बाकी देश के लोगों को इंतजार करना होगा और पैसा देना होगा, एक बड़ा सवाल बिहार को विशेष राज्य का दर्जा और पैकेज को लेकर भी हो हल्ला हो रहा है और ना तो मोदी और न ही नितिश इस बारे में कुछ कह रहे है

.पिछले लोकसभा चुनाव में नितीश विशेष राज्य के दर्जे और पैकेज पर ही सवार होकर ही एनडीए के साथ जुडे थे लेकिन वो सब कहां गया उसका जवाब देना मुश्किल है। बीजेपी ने साझा सरकार और गठबंधन होते हुये भी इस चुनाव को नीतिश बनाम अन्य कर दिया है और खुद किनारे पर है ताकि अगर चुनाव हारे तो उसका दोष केन्द्र के बजाय नीतिश पर पूरी तरह डाल दें और ये हताशा अब साफ दिखने लगी है. पहले चरण के चुनाव के पहले ही इस तरह की भाषा से साफ है कि बीजेपी को समझ में आने लगा है कि नीतीश की जमीन खिसक रही है।

संदीप सोनवलकर, वरिष्ठ पत्रकार




Updated : 2020-10-23T15:10:52+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top