Top
Home > ब्लॉग > गरीबों को दलित बनाया!

गरीबों को दलित बनाया!

गरीबों को दलित बनाया!
X

युरोप में अश्वेतों के ख़िलाफ़ जुल्म में जिन लोगों को महारत हासिल थी, वो जब भारत आए तो सामाजिक समरस्ता देख उन्हें लगा कि इस सामाजिक ताना बाना को कैसे तोडा जाए ? उदाहरण जो लेफ़्ट मीडिया वाल्मीकि समाज को पिछड़ा दलित पीड़ित बता रही है। उन्हीं महर्षि वाल्मीकि ने रामायण की रचना की थी। महर्षि वाल्मीकि के आश्रम में लव कुश का जन्म हुआ। माता सीता आखिरी समय तक महर्षि वाल्मीकि के आश्रम में रही, जो 9000 साल पहले आदरणीय थे पूजनीय थे। राजपुत्रों के गुरु थे वो कांग्रेस की नज़रों में दलित हो गए ?

हमारे सहयोगी चैनल मैक्स महाराष्ट्र मराठी के वेबसाइट में छपे 'जात दिसली, अन् हिंदुत्वाची मोट सुटली..' इस लेख पर भाजपा के नेता योगेश वर्मा की तरफ से ये प्रतिक्रिया आई है, जिसे हम प्रकाशित कर रहे हैं।

यह भी पढ़े

जात दिसली, अन् हिंदुत्वाची मोट सुटली..
https://www.maxmaharashtra.com/max-blog/how-up-cm-yogi-adityanath-shift-hindutva-agenda-in-to-upper-caste-politics/97053/

कांग्रेस राज में सब विदेशी मिशनरीज के द्वारा संचालित होता है। विश्व में दो ही फर्क़ है अमीर और गरीब। अंग्रेज और कांग्रेस ने ग़रीबों को मिशनरीज़ के हवाले कर दिया। गरीब को दलित का नाम देकर हर सरकारी कागज पर उसकी जाति लिखवा कर ग़रीबों का मजाक उड़ाया। झूठ का इतिहास लिखा, लिखवाया, जो जितना झूठा इतिहास लिखेगा, उतना उसे सरकारी इनाम मिलेगा, जैसे पश्चिम के ईसाई देशों में अफ्रीकी मूल के अश्वेतों की अपनी खुद की जातियों से तोड़ने के लिए, ईसाई बनाने के लिए उन्ही के बीच के अश्वेतों को पहले ईसाई बनाया।

जिन ईसाई धर्मावलंबियों ने अश्वेतों पर तमाम क़िस्म के अत्याचार किए। ग़ुलामी करवाई। जानवरों की तरह रखा। भयानक अत्याचार किए। क्रूर तरीक़े से इनकी हत्या की फिर वो ही ईसाई अफ़्रीकन लोगों को इन सबके लिए उन्हीं की जुलु जाति ज़िम्मेदार है। ऐसा अपने ईसाई मिशनरीज़ स्कूल के माध्यम से पढ़ाने लगे। धीरे-धीरे अफ़्रीका में ईसाईयत फैलने लगी। लोग जातियों के नाम पर अपने असली दुश्मन ब्रिटिश, ईसाई को छोड़ आपस में मार काट करने लगे। सूडान, हेती, बुरुंडी, दक्षिण अफ़्रीका में ईसाई व्यापारियों ने लाखों अश्वेतों की हत्याएं करवाई।

उसी मॉडल पर चलते हुए ब्रिटिश द्वारा स्थापित, ईसाई मिशनेरी द्वारा संचालित कांग्रेस इस देश के अपने संतों महर्षि वाल्मीकि ,रविदास को हमसे छिनना चाहती है। ग़रीबों को भड़का कर आपस की रंजिश को जाति युद्ध में तब्दील करना चाहती है। भारत वर्ष के लोगों को सावधान रहना है इन शैतानों से। देश की हमारी अपनी व्यवस्था को प्रेम को नष्ट कर हम पर अफ़्रीका का प्रयोग सफल कर इस देश को फिर उन्ही के एजेन्टो ( कांग्रेस पार्टी ) द्वारा पहले समाज से तोड़ो फिर ईसाई, मुस्लिम बनाओ, देश को कमजोर करो की नीति अगर सफल हुई तो ये देश दूसरा अफ़्रीका बन जाएगा !

  • योगेश वर्मा, प्रवक्ता, भाजपा नेता


Updated : 4 Oct 2020 11:05 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top