Home > ब्लॉग > इस काली टोपी के नीचे किसका दिमाग है? सुनील सांगले

इस काली टोपी के नीचे किसका दिमाग है? सुनील सांगले

राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी एक के बाद एक विवादित बयान दे रहे हैं। क्या एक गैर मराठी व्यक्ति को राज्यपाल बनाकर कुछ छल करने का प्रयास किया जा रहा है, सुनील सांगले ने गहन विश्लेषण किया है...

इस काली टोपी के नीचे किसका दिमाग है? सुनील सांगले
X

" समर्थ ना होते तो शिवाजी महाराज को कौन पूछता?" एक दिन वह यही कहते है और सहिष्णु मराठी लोग इसे भूल जाते हैं। फिर एक दिन, वह उठता है और सावित्रीबाई फुले, जो महाराष्ट्र में पूजनीय है, के बाल विवाह के बारे में एक सार्वजनिक मुस्कान के साथ अश्लील टिप्पणी करता है। वह गंदा सवाल पूछता है, शादी के बाद 10 साल की सावित्रीबाई और 13 साल की जोतिबा क्या कर रही होंगी? यह संगीन नहीं है? न्यूज़ लोकमत पर कल के विवाद के बाद यह वीडियो फिर दिखाए गए हैं। इन सबके बावजूद उस समय इस राज्य में इसका ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ा। इसलिए, राज्यपाल को कम से कम अब और अधिक जिम्मेदारी से वक्तव्य करने का सवाल ही नहीं था।




इसलिए उन्होंने फिर एक व्यक्तव्य दे डाला अगर गुजरात और राजस्थान के लोग मुंबई ठाणे छोड़ दें, तो मुंबई में पैसा नहीं रहेगा; उन्होंने कहा कि मुंबई आर्थिक राजधानी नहीं होगी। संक्षेप में, वे कहते हैं कि इन लोगों के बिना, महाराष्ट्र गरीब होगा। मुंबई भारत की वित्तीय राजधानी क्यों है यह एक अलग लेख का विषय है। लेकिन भले ही गुजरात में सभी गुजराती हैं और राजस्थान में सभी मारवाड़ी हैं, फिर भी मुंबई देश की वित्तीय राजधानी क्यों है, इसके ऐतिहासिक और भौगोलिक कारण क्या हैं, राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी को अपनी सेवानिवृत्ति के बाद इसका पता लगाना चाहिए।


(काली टोपी का यह किस्सा सच और प्रमाणिक है) मैक्स महाराष्ट्र

कोश्यारी और उनकी काली टोपी को लेकर कई तरह प्रतिक्रिया सामने आयी है, जैसे एक बैल लाल कपड़ा दिखाने पर वो हरकत करता है। राहुल गांधी ने मुझसे (तत्कालीन भाजपा सांसद) पूछा कि आप काली टोपी क्यों पहनते हैं? कोश्यारी ने कहा था कि लोग इसे उत्तराखंड में पहनते हैं। इस पर राहुल ने कहा- नहीं, नहीं, आप आरएसएस से हैं। मैंने कहा कि मैं आरएसएस से हूं लेकिन टोपी उत्तराखंड की है। आरएसएस की स्थापना से पहले से लोग इसे वहां यह काली टोपी पहनते आ रहे हैं।


लेकिन राज्यपाल के इस बयान पर हमारे राजनेता क्या कह रहे हैं, यह देखना ज्ञानवर्धक है। सभी मराठी लोगों के इस अपमान पर हमारे मुख्यमंत्री ने कहा कि यह राज्यपाल की निजी राय है और हम इससे सहमत नहीं हैं. वह भी एक पेपर पढ़कर इस सब के बारे में बात कर रहे थे। उपमुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा, "मराठी में अतिशयोक्ति अलंकार एक आभूषण है। राज्यपाल ने एक सामुदायिक कार्यक्रम में ऐसा कहा होगा। मैं उनसे सहमत नहीं हूं।" बस यही प्रतिक्रिया है? उनका भी समर्थन करके? मुंबई के मराठी लोगों को कोश्यारी की भाषा सीखने के लिए क्या अभी क्लास लेनी चाहिए? आशीष शेलार ने ट्वीट किया कि वह राज्यपाल के बयान से सहमत नहीं हैं। वे और क्या कहेंगे? वह राज्यपाल की क्या आलोचना करेंगे? बेशक, इन लोगों से राज्यपाल की आलोचना की उम्मीद करना भी गलत है।

राज ठाकरे कुछ अलग कह रहे हैं। उनका कहना है कि जनता इतनी भोली नहीं है कि यह नहीं जानती कि राज्यपाल ने चुनाव से पहले ऐसा बयान क्यों दिया और किसके कहने पर। इसका क्या मतलब है? क्या उन्होंने बीजेपी को गुजराती और मारवाड़ी वोट पाने के लिए ऐसा कहा? मानो जैसे शिवसेना को वो वोट मिलने ही वाले थे! बेशक, उद्धव ठाकरे ने इस मुद्दे पर बहुत जोरदार तरीके से बात की। इसकी उम्मीद थी। उन्होंने यह भी कहा कि राज्यपाल को माफी मांगनी चाहिए। लेकिन राज्यपाल ने आज एक रहस्योद्घाटन किया है और उनके अब माफी मांगने की संभावना नहीं है। और अगर वे माफी नहीं मांगेंगे तो शिवसेना क्या करेगी? क्या आप विरोध करेंगे? मार्च करेंगे? इस बारे में उद्धव ठाकरे ने कुछ नहीं कहा। और तमाम हंगामे के बाद अब तक राज्यपाल क्या कर रहे हैं? वह कहते हैं, "हमेशा की तरह मेरा भाषण का विकृतिकरण कर के उसे दिखाया गया! विरूपण? भले ही शिवाजी महाराज और फुले ज्योतिबा के बारे में कोश्यारी ने क्या कहा और आज उन्होंने जो कहा उसका एक वीडियो है, यह आदमी बिना किसी हिचकिचाहट के इस तरह बात कर रहा है।

ये लोग झूठ फैलाने और जुबानी फैलाने के लिए कुख्यात हैं। उन्होंने उसे केवल एक बार फिर इससे जागते देखा। क्या कोई दक्षिणी राज्यों या बंगाल में पूरे तमिल या बंगाली समुदाय के बारे में ऐसा बयान देने की हिम्मत करेगा? और अगर ऐसा होता है तो इसके क्या परिणाम होंगे? इससे पता चलता है कि महाराष्ट्र इतना सभ्य है कि उसके राजनीति काली टोपी के नीचे दिमाग वाले इस व्यक्ति के इस्तीफे की मांग भी नहीं करते हैं, जो राज्यपाल के पद की प्रतिष्ठा के चिथड़े उड़ा रहा है। अति-उदारता, अति-सहिष्णुता और संकीर्णता के बीच की रेखा बहुत धुंधली है। अब यह जाांचने और परखने का समय है कि मराठी समाज उस सीमा रेखा पर कहां खड़ा है।





Updated : 2022-07-31T13:08:52+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top