Latest News
Home > ब्लॉग > क्या शिवसेना में बगावत मोदी-शाह का दीर्घकालिक (लांग टर्म) कार्यक्रम है? वरिष्ठ पत्रकार राजनीतिक विश्लेषण सुनील तांबे का लेख

क्या शिवसेना में बगावत मोदी-शाह का दीर्घकालिक (लांग टर्म) कार्यक्रम है? वरिष्ठ पत्रकार राजनीतिक विश्लेषण सुनील तांबे का लेख

आरोप है कि एकनाथ शिंदे की बगावत के पीछे देवेंद्र फडणवीस का हाथ था!!

क्या शिवसेना में बगावत मोदी-शाह का दीर्घकालिक (लांग टर्म) कार्यक्रम है? वरिष्ठ पत्रकार राजनीतिक विश्लेषण सुनील तांबे का लेख
X

मुंबई: क्या यह सत्ता के लिए बगावत है, या इसके पीछे कोई दीर्घकालिक कार्यक्रम है? वरिष्ठ पत्रकार राजनीतिक विश्लेषण सुनील तांबे ने इस लेख की शुरुआत "भाजपा की पारी" शीर्षक से की है। उन्होंने यह भी कहा कि कृपया इस लेख को वायरल करें ताकि यह एकनाथ शिंदे और उनके साथी शिवसेना विधायकों तक पहुंचे। बता दें, इस पोस्ट को पढ़ने के बाद उनकी राय या भूमिका बदल गई है। आज की तस्वीर यह है कि विधायक एकनाथ शिंदे के पास विधानसभा में शिवसेना के दो तिहाई से ज्यादा विधायक हैं। स्वाभाविक रूप से, यदि अविश्वास प्रस्ताव आता है, तो ये विधायक एकनाथ शिंदे के निर्देश के अनुसार मतदान करेंगे और उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में महाराष्ट्र विकास अघाड़ी की सरकार गिर जाएगी।

फिर दो संभावनाएं हैं।

1. एकनाथ शिंदे के समूह का भाजपा में विलय होगा।

2. एकनाथ शिंदे का समूह दावा करेगा कि हम असली शिवसेना हैं।

दूसरी संभावना महत्वपूर्ण है। क्योंकि इससे यह सवाल पैदा होगा कि असली शिवसेना कौन है और चुनाव आयोग (यानी मोदी-शाह) का फैसला अहम होगा। दो संभावनाएं हैं।

1. शिवसेना के धनुष-बाण के चुनाव चिह्न पर लगेगी मुहर यह चिन्ह

2. एकनाथ शिंदे के समूह या पार्टी को दिया जाएगा।

2024 के चुनाव में शिवसेना के पास चुनाव चिन्ह के रूप में धनुष-बाण नहीं होगा। इस चुनाव में शिंदे और ठाकरे दोनों की ताकत आधी हो जाएगी। यानी शिंदे की शिवसेना के 20 और ठाकरे की शिवसेना से 20 विधायक चुने जाएंगे। शिंदे और ठाकरे दोनों को महाराष्ट्र की राजनीति से गायब होना पड़ेगा। राज्य में बीजेपी अपने दम पर सत्ता में आएगी।

वहीं विपक्ष में राकांपा और कांग्रेस का दबदबा रहेगा। अगले चुनाव में शिंदे और ठाकरे दोनों की सेना का वजूद नाममात्र का ही होगा। क्योंकि शिंदे और उद्धव ठाकरे दोनों के पास अपने दम पर राज्य में पार्टी बनाने और मतदाताओं को आकर्षित करने का विजन नहीं है। शिंदे हों या ठाकरे, शिवसेना का सफाया फडणवीस, मोदी-शाह का कार्यक्रम है। इसके लिए उद्धव ठाकरे और एकनाथ शिंदे जिम्मेदार होंगे।"

Updated : 24 Jun 2022 11:06 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top